हजारों शिक्षकों को सरकार ने दिया ‘झटका’, कारण जानने के लिए पढ़े पूरी खबर

punjabkesari.in Friday, Oct 06, 2017 - 02:46 PM (IST)

शिमला : निजी स्कूलों में सेवाएं दे रहे हजारों शिक्षकों को सरकार ने करारा झटका दिया है। दरअसल, 1100 शिक्षकों ने एनआईओएस के पोर्टल पर अधूरी जानकारी देकर पंजीकरण करवाया है। जिसके चलते डिप्लोमा इन एलीमेंटरी करने के लिए भरे गए शिक्षकों के फॉर्म रिजेक्ट कर दिए है। केंद्र सरकार ने सही और जरुरी जानकारियां देने के लिए शिक्षकों को एक ओर मौका दिया है। जानकाकी के मुताबिक, प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय ने सभी जिला उपनिदेशकों को आदेश जारी करते हुए कहा कि जिन शिक्षकों के फॉर्म रिजेक्ट हुए है उनके नाम निदेशालय की वेबसाइट पर अपलोड कर दिए है। निदेशक मनमोहन शर्मा ने बताया कि कुछ शिक्षकों ने फीस जमा नहीं करवाई है, जबकि कुछ ने स्कूल प्रिंसिपलों से कागजात सत्यापित नहीं करवाए हैं। केंद्र सरकार ने प्राइवेट स्कूलों में प्राइमरी कक्षाओं को पढ़ाने वाले शिक्षकों को डिप्लोमा इन एलीमेंटरी एजूकेशन (डीएलएड) करना अनिवार्य कर दिया है।

1500 रुपए की दूरदर्शन की खरीदनी होगी डिश 
अब पहली क्लास से लेकर 5वीं के लिए बीएड की सेवाएं दे रहे  शिक्षक मान्य नहीं होंगे। इनके लिए डीएलएड करना जरुरी है और यह ऑनलाइन होगा। जिसकू फीस 4500 रुपए होगी। स्टडी मैटीरियल शिक्षकों को ऑनलाइन मुहैया करवाया जाएगा। जो शिक्षक ऑनलाइन पढ़ाई नहीं कर सकते, उन्हें 1500 रुपए की दूरदर्शन की डिश खरीदनी होगी। दूरदर्शन के एजूकेशन चैनल के माध्यम से ये शिक्षक पढ़ाई कर सकेंगे। मार्च 2019 तक न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता पूरी नहीं करने वाले शिक्षकों की नौकरी को समाप्त कर दिया जाएगा।

16 अगस्त से 15 सितंबर तक पंजीकरण
वहीं दूसरी ओर डीएलएड करने के लिए अप्रशिक्षित शिक्षकों को एनआईओएस पोर्टल पर खुद को पंजीकृत करवाना पड़ा है। 16 अगस्त से 15 सितंबर तक पंजीकरण किया गया है। डिप्लोमा इन एलीमेंटरी एजूकेशन करने के लिए 12वीं में 50% अंक होना जरुरी है।12वीं में जिन शिक्षकों के 50%अंक है वह रि-अपीयर का एक बार पेपर देकर अपने अंक बढ़ा सकते है ऐसे शिक्षकों को भी पंजीकरण करवाना होगा। इन्हें डीएलएड में प्रोविजनल एडमिशन मिलेगी।

विज्ञान मंथन के लिए 10 तक पंजीकरण
बताया जा रहा है कि विज्ञान भारती की तहत करवाई जाने वाली राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा विद्यार्थी मंथन- 2017 के लिए 10 अक्तूबर तक पंजीकरण होगा। विद्यार्थी विज्ञान मंथन के प्रांत संयोजक बलवीर पटियाल ने बताया कि इस परीक्षा में छठी से जमा एक कक्षा के विद्यार्थी शामिल हो सकते हैं। पंजीकरण के लिए vvm.org.in पर विद्यार्थियों को लॉग इन करना होगा। विद्यार्थी विज्ञान मंथन के चार चरण होंगे। पहले चरण में कुल 18 विद्यार्थी (प्रत्येक कक्षा से 3-3 विद्यार्थी) चुने जाएंगे। इन्हें मेरिट सर्टिफिकेट दिए जाएंगे। दूसरा चरण जिला स्तर पर होगा। इसमें प्रत्येक जिले से 18 विद्यार्थी चुने जाएंगे। इन्हें भी मेरिट सर्टिफिकेट दिया जाएगा और जिले के किसी भी शोध संस्थान का भ्रमण करवाया जाएगा। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Related News

Recommended News