अब मेडिकल कालेज नेरचौक में भी होगा कोरोना के रोगियों का इलाज

3/29/2020 9:51:36 PM

मंडी (ब्यूरो): कोरोना वायरस संक्रमित रोगियों को इलाज अब लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल नेरचौक में भी होगा। प्रदेश सरकार ने नेरचौक मेडिकल कॉलेज को देश में कोरोना वायरस के रोगियों की संख्या को बढ़ता देखते हुए रैड कैटेगरी में शामिल किया है। इससे पहले प्रदेश सरकार ने आईजीएमसी शिमला और टांडा मेडिकल कॉलेज कांगड़ा में ही कोरोना वायरस के गंभीर रोगियों के इलाज की सुविधा प्रदान की थी। मेडिकल कॉलेज नेरचौक को रैड कैटेगरी में शामिल करने से अब यहां पर बिलासपुर, कुल्लू, लाहौल-स्पीति और मंडी जिला में अगर कोई गंभीर रोगी कोरोना का सामने आता है तो उसके इलाज की सुविधा यहां पर मिलेगी।

7 वैंटिलेटर का विशेष वार्ड बनाया

कोरोना के गंभीर रोगियों के लिए 7 वैंटिलेटर का विशेष वार्ड बनाया गया है। इसके अलावा अस्पताल परिसर में एक 12 बैड का आइसोलेशन का वार्ड स्थापित किया है। साथ ही 16 बैड का आइसोलेशन वार्ड ए श्रेणी के रोगियों के लिए और अस्पताल के 5वें फ्लोर में 30 बैड का एक वार्ड बनाया गया है। इसके अलावा भविष्य में अगर जरूरत पड़ी तो मैडीकल कालेज एवं अस्पताल प्रशासन ने 400 बैड और चिन्हित कर किए हैं।

1000 कर्मचारी मोर्चा संभालने को तैयार

कोरोना की स्थिति से निपटने के लिए अस्पताल प्रशासन ने अपने सभी कर्मचारियों को प्रशिक्षित कर दिया है। अस्पताल में कार्यरत सभी श्रेणियों के करीब 1000 हजार कर्मचारियों को किया प्रशिक्षित करके आपात स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार कर रखा है। इसके लिए सभी कर्मचारियों के लिए कार्यशालाएं लगाकर प्रशिक्षण दिया गया है। इसमें नियमित और आऊटसोर्स पर रखे गए विभिन्न कर्मचारियों की विशेष ट्रेनिंग दी गई है।

रोगी को फरार होने से रोकने को अतिरिक्त पुलिस फोर्स तैनात

पिछले दिनों मैडीकल कालेज में आइसोलेशन में रखे गए विभिन्न व्यक्तियों द्वारा स्टाफ का सहयोग न करने के बाद जिला आपदा प्रबंधन के सहयोग से अतिरिक्त पुलिस फोर्स अस्पताल परिसर में तैनात की गई है। इसके लिए 10 पुलिस जवान अस्पताल को मिले हैं जो कोरोना से संग्दिध रोगियों पर नजर रखें कि वे इलाज के दौरान फरार न हो सकें।

क्या बोले अस्पताल के वरिष्ठ एमएस

मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल नेरचौक के वरिष्ठ एमएस डॉ. देवेंद्र शर्मा ने बताया कि लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल नेरचौक को रैड कैटेगरी में शामिल कर दिया गया है। अब यहां पर कोरोना वायरस के गंभीर रूप से ग्रस्त रोगियों का इलाज भी होगा।


Vijay

Related News