बीएससी व बीकॉम प्रथम वर्ष की परीक्षाओं के परिणाम पर उठे सवाल, ABVP ने HPU में निकाली रैली

punjabkesari.in Thursday, Nov 24, 2022 - 07:05 PM (IST)

शिमला (अभिषेक): बीएससी व बीकॉम प्रथम वर्ष की परीक्षाओं के परिणाम पर विद्यार्थियों ने सवाल उठाए हैं। विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं सहित विभिन्न कालेजों के विद्यार्थियों ने इन परीक्षाओं के परिणाम में अनियमितताएं बरतने का आरोप लगाया है। हाल ही में घोषित हुए परिणामों को देखकर विद्यार्थियों के होश उड़ गए। उनका आरोप है कि 12वीं कक्षा में जो विद्यार्थी टॉपर थे या मैरिट में थे, उन्हें प्रथम वर्ष की परीक्षाओं में फेल कर दिया गया है और कई विद्यार्थी ऐसे हैं, जिनके कई विषयों में 70 से 82 अंक हैं जबकि अन्य विषयों में 2 से 3 अंक देकर फेल किया है। विद्यार्थियों का आरोप है कि विद्यार्थियों की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन सही ढंग से नहीं हुआ है, ऐसे में उनकी मांग है कि पेपर दोबारा से चैक होने चाहिए।

कुलपति कार्यालय के बाहर दिया धरना 
इस मामले को लेकर बीते बुधवार को कुछ काॅलेजों में विद्यार्थियों ने प्रधानाचार्यों के समक्ष यह मामला उठाया था और प्रदर्शन भी किया था। वहीं वीरवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने विश्वविद्यालय परिसर में मामले को लेकर रैली निकाली और इसके बाद कुलपति कार्यालय के बाहर धरना भी दिया। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के विश्वविद्यालय विधि विभाग के इकाई अध्यक्ष सचिव राणा ने कहा कि बीएससी व बीकॉम प्रथम वर्ष की परीक्षाओं के परिणाम में अनियमितताएं सामने आई हैं और पता लगाने में सामने आया है कि करीब 85 प्रतिशत विद्यार्थियों के परिणाम ऐसे हैं, जिसे लेकर सवाल उठे रहे हैं और प्रभावित विद्यार्थी पुनर्मूल्यांकन की मांग उठा रहे हैं। उन्होंने कहा कि 12वीं कक्षा के टॉपर विद्यार्थियों को प्रथम वर्ष की वार्षिक परीक्षा में फेल दर्शाया गया है।

पुनर्मूल्यांकन का रिजल्ट आने तक फेल हुए विद्यार्थियों को द्वितीय वर्ष में सशर्त दिया जाए प्रवेश
विद्यार्थी परिषद ने मामले की गंभीरता को देखते हुए हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय प्रशासन से मांग की है कि प्रभावित विद्यार्थियों की उत्तर पुस्तिकाओं का पुनर्मूल्यांकन होना चाहिए और पुनर्मूल्यांकन का परिणाम आने तक स्नातक प्रथम वर्ष में फेल हुए विद्यार्थियों को द्वितीय वर्ष में सशर्त प्रवेश दिया जाए। इसके अलावा पुनर्मूल्यांकन का परिणाम आने तक सैंटर ऑफ एक्सीलैंस संजौली काॅलेज शिमला के विद्यार्थियों को इसी काॅलेज में पढ़ाई जारी रखने की अनुमति देने की मांग भी उठाई है। इन मांगों को लेकर विद्यार्थी परिषद ने विश्वविद्यालय के प्रो-वाइस चांसलर प्रो. ज्योति प्रकाश को ज्ञापन सौंपा और उन्हें मामले से अवगत करवाकर उचित कदम उठाने की मांग की।

पेपर चैकिंग की प्रक्रिया में सुधार लाने की मांग : आशीष
विद्यार्थी परिषद के विश्वविद्यालय इकाई उपाध्यक्ष आशीष ठाकुर ने कहा कि बीएससी व बीकॉम प्रथम वर्ष की उत्तर पुस्तिकाओं के पुनर्मूल्यांकन का परिणाम समयबद्ध घोषित किया जाना चाहिए और इसकी फीस रैगुलर परीक्षा से अधिक न हो। उन्होंने विश्वविद्यालय प्रशासन से पेपर चैकिंग की प्रक्रिया में सुधार लाने की मांग भी उठाई।

क्या कहते हैं विश्वविद्यालय के प्रो-वाइस चांसलर व परीक्षा नियंत्रक
हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के प्रो-वाइस चांसलर प्रो. ज्योति प्रकाश ने कहा कि स्नातक कोॢसज की परीक्षाओं के परिणाम को लेकर यदि विद्यार्थियों को शंका है तो वे पुनर्मूल्यांकन के लिए आवेदन कर सकते हैं। विश्वविद्यालय प्रशासन प्राथमिकता के आधार पर पुनर्मूल्यांकन करवाकर परिणाम घोषित करेगा। वहीं विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक प्रो. जेएस नेगी ने कहा कि विद्यार्थी पुनर्मूल्यांकन करवा सकते हैं।

हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vijay

Related News

Recommended News