कल से परिवहन सेवा शुरू, नाइट कर्फ्यू में यात्रियों के लिए बस टिकट होगा कर्फ्यू पास

2021-06-13T10:52:36.267

शिमला (राजेश) : कोरोना संकट में हिमाचल में करीब एक माह बाद फिर से परिवहन सेवा शुरू हो रही है। इंटर स्टेट बस सेवा अभी शुरू नहीं की गई है। ऐसे में फिलहाल इंटर डिस्ट्रिक यानी एक जिला के भीतर और एक जिला से दूसरे जिला में ही बस सेवाएं चलेंगी। प्रदेश से बाहर कोई भी बस सेवा सरकार ने बहाल नहीं की है, लेकिन हिमाचल के बॉर्डर तक बसें चलती रहेंगी। उदहारण के अनुसार परवाणु हिमाचल का बॉर्डर है ऐसे में बसें परवाणु तक चलेंगी। इसी तरह प्रदेश के अन्य जिलों से भी बाहरी राज्यों के साथ लगते बस अड्डों तक निगम की बसें चलेंगी। 

हालांकि बसों के संचालन शुरू होने पर एक से दो बसें भी बॉर्डर के साथ लगते क्षेत्रों में भेजेंगे, सवारियों की संख्या बढऩे के बाद बसों की संख्या बढ़ाई जाएगी। निगम के अनुसार सोमवार से प्रदेश के सभी जिलों से दूसरे जिलों के लिए बसें चलाई जाएंगी। एचआरटीसी के जीएम पंकज सिंघल ने बताया कि सरकार के निर्देंशों के अनुसार बसें चलाई जा रही हैं, प्रदेश में किसी भी यात्री को परेशानी आने नहीं दी जाएगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश में रात्रि बस सेवाएं भी चलेंगी, इसमें बस टिकट ही यात्री का पास होगा।

एचआरटीसी वैबसाइट पर अपलोड करेगी रूट व टाइम

निगम अधिकारियों का कहना है कि अभी यह निर्धारित नहीं किया गया है कि किस जिला को कितनी बसें चलेंगी और किन रूटों पर भेजी जाएंगी, लेकिन सोमवार सुबह तक एचआरटीसी की वैबसाइट पर प्रदेश के बीच चलने वाल रूटों की ऑनलाइन जानकारी अपलोड कर दी जाएगी। यात्री ऑनलाइन अपने रूट पर जाने वाली बस की ऑनलाइन बुकिंग भी कर सकता है और यह जानकारी भी हासिल कर सकता है कि उसके रूट पर जाने वाली बस जा रही है या नहीं। निगम प्रबंधन ने दावा किया  कि सोमवार को प्रदेश के सभी डिपुओं से बसें चलाई जाएंगी।

38 दिनों बाद चल रही बसें, करीब 100 करोड़ से अधिक घाटा  

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों में कटौती के बाद प्रदेश में 38 दिनों बाद बसें चलने जा रही हैं। इन दिनों निगम के 100 करोड़ से अधिक का घाटा हो चुका है। पिछले वर्ष लॉकडाऊन में 450 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। वहीं अब यह घाटा और बढ़ गया है।

परिवहन क्षेत्र के लिए राहत देना सराहनीय कदम: बिक्रम सिंह

परिवहन मंत्री बिक्रम सिंह ने मंत्रिमंडल की बैठक में लिए गए विभिन्न निर्णयों की सराहना की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने परिवहन क्षेत्र को लगभग 40 करोड़ रुपए की राहत प्रदान की है। उन्होंने स्टेज कैरिज ऑप्रेटरों के लिए कार्यशील पूंजी पर ब्याज उपदान योजना की स्वीकृति से बस ऑप्रेटरों को प्रति बस 2 लाख रुपए तथा अधिकतम 20 लाख रुपए तक की ऋण राशि कार्यशील पूंजी के लिए उपलब्ध करवाने के निर्णय का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि 1 अपै्रल, 2021 से 30 जून, 2021 की तीन माह की अवधि में विशेष रोड टैक्स एवं टोकन टैक्स पर प्रदान की गई 50 प्रतिशत की राहत सराहनीय निर्णय है।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

prashant sharma

Recommended News

static