मेरी चिंता छोड़ें, उपचुनावों में दुर्घटनाग्रस्त हो चुकी है जयराम की गाड़ी, नहीं हो सकती रिपेयर : मुकेश अग्निहोत्री

punjabkesari.in Friday, Jan 21, 2022 - 07:41 PM (IST)

ऊना (सुरेन्द्र): नेता विपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर कांग्रेस पार्टी की गाड़ी के दुर्घटनाग्रस्त होने की चिंता छोड़ें। खुद अपनी दुर्घटनाग्रस्त हो चुकी गाड़ी की चिंता करें। उनके साथ तो पहले ही यह हादसा हो चुका है। उपचुनावों में ऐसा भीषण हादसा हुआ है कि उनकी गाड़ी रिपेयर के काबिल भी नहीं रही है। कोई हिमाचली उनके हाथ में गाड़ी देने को तैयार नहीं होगा। जयराम मेरी चिंता न करें और अपनी चिंता करें। कांग्रेस के लोग नेता प्रतिपक्ष को लेकर क्या चाहते हैं, इसकी चिंता छोड़कर यह बताएं कि मुख्यमंत्री क्या चाहते हैं। सीएम 4 साल से यही चाहते हैं कि किसी तरीके से मुकेश नेता प्रतिपक्ष के पद से हट जाए। उनकी दिल की बात जुबान पर आ जाती है।

जयराम सरकार एक डूबता जहाज

नेता विपक्ष ने कहा कि जयराम सरकार एक डूबता जहाज है। इसे यकीनन डूबना है। इसे कोई भी नहीं बचा सकता है। इस पर सवार कुछ लोग छलांगें लगा रहे हैं। डबल इंजन फेल हो चुका है। इसकी कोई रिपेयर नहीं हो सकती। इसी नवम्बर में गाड़ी बदल जाएगी। प्रदेश की जनता के मूड को भांपने की मुख्यमंत्री को कोशिश करनी चाहिए। भाजपा के भीतर जो हो रहा है, उसके बारे भी सीएम को पता करना चाहिए। सारा खुफिया तंत्र और फोन टैप विपक्ष के ही नहीं करने चाहिए, बल्कि अपनी पार्टी के लोगों का भी ख्याल रखें। वहां ज्यादा नाजुक स्थिति है।

सारे माफिया के पीछे सरकार का हाथ

मुकेश ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में माफिया दनदना रहा है। शराब माफिया, खनन माफिया और वन माफिया के पहले ही मामले उठाए थे। सीएम ने इस पर कोई ध्यान नहीं दिया। अब श्रम माफिया की पोल खुल गई है। इस सारे माफिया के पीछे सरकार का हाथ है। आखिर फैक्ट्रियों से बाहर कैसे शराब आई। चंडीगढ़ से अवैध शराब कैसे पहुंच गई। प्रदेश में 7 लोग मारे गए, जबकि कुछ लोग तड़प रहे हैं। यह जहरीली शराब प्रदेश में कहां-कहां से सप्लाई हो रही है। हिमाचल में अरबों रुपए का अवैध शराब का कारोबार किस की शह पर चल रहा है। इसके पीछे कौन है? ट्रकों के ट्रक शराब के पकड़े गए लेकिन कार्रवाई नहीं हुई है। फर्जी चैक डिपार्टमैंट को दे दिए गए। यह बहुत बड़ा धंधा हिमाचल प्रदेश में हो रहा है। प्रदेश में होम डिलीवरी और पैग सेल हो रही है। एक्साइज विभाग किसके इशारे पर खामोश है। सीएम शराब के ठेकों की नीलामी क्यों नहीं करवाते। इस बार क्या करने जा रहे हैं। क्यों 10 से 15 प्रतिशत बढ़ाकर फिर ठेकों को देने जा रहे हैं। इससे किसे लाभ दिया जा रहा है और कौन लाभ लेना चाह रहा है। करोड़ों रुपए का यही घोटाला है।

पहली बार शराब से मरने वालों को सरकार दे रही मुआवजा

शराब से मरने वालों को सरकार मुआवजा दे रही है। ऐसा पहली बार देखने को मिल रहा है। कोरोना से मरने वालों या शहादत में मरने वालों को मुआवजे मिलते हैं। इससे यहां क्या प्रेरणा दी जा रही है। अवैध शराब की तरह ही अवैध माइनिंग का धंधा फलफूल रहा है। किसने ऊना की स्वां नदी को जमकर लूटा है। चंद चहेतों को लूटने के लिए लगा दिया गया है। मुख्यमंत्री पंजाब की बात कर रहे हैं लेकिन वह अपने राज्य की स्थिति देखें कि हो क्या रहा है।

प्रदेश में सीमैंट के रेट क्यों बढ़ रहे

मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि प्रदेश में सीमैंट के रेट क्यों बढ़ रहे हैं। यहां 460 रुपए की बोरी पहुंच गई है। जब सरकार बदली थी तब 270 रुपए रेट था। अब इतने क्यों बढ़ गए हैं। सीमैंट कंपनियों को रेट बढ़ाने की इजाजत क्यों दी गई। हिमाचल में सीमैंट बनता है और यहीं महंगा क्यों है। बिजली हिमाचल में है और यहीं महंगी है। बिजली के रेट और बढ़ने के संकेत दिए जा रहे हैं। बिजली लोगों की पहुंच से बाहर हो जाएगी।

66 हलकों को नजरअंदाज कर केवल 2 हलकों पर किया फोकस

मुकेश ने कहा कि डबल इंजन सरकारों की रेटिंग में हिमाचल सबसे निचले पायदान पर आंका गया है। प्रदेश की स्थिति काफी खराब है। 4 वर्षों में नाबार्ड से प्लानिंग की मीटिंग में विधायक प्राथमिकताओं के लिए 3500 करोड़ रुपए का कर्जा लिया गया लेकिन 66 हलकों को नजरअंदाज कर केवल 2 हलकों पर ही फोकस कर दिया गया। हरोली हलके को शून्य दिया गया है।

हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vijay

Related News

Recommended News