पुलिस भर्ती पेपर लीक मामला : निष्पक्ष जांच के लिए क्रमिक भूख हड़ताल पर बैठी युवा कांग्रेस, हस्ताक्षर अभियान चलाया

punjabkesari.in Tuesday, May 17, 2022 - 06:10 PM (IST)

शिमला (राक्टा): हिमाचल प्रदेश पुलिस कांस्टेबल भर्ती का पेपर लीक मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इसी कड़ी में मामले की निष्पक्ष जांच सीटिंग जज से करवाए जाने के लिए युवा कांग्रेस ने मंगलवार को सभी जिला पुलिस मुख्यालयों में क्रमिक अनशन (भूख हड़ताल) शुरू कर दिया है। राजधानी शिमला स्थित एसपी कार्यालय के बाहर युकां कार्यकर्ता प्रदेशाध्यक्ष नेगी निगम भंडारी के नेतृत्व में क्रमिक भूख हड़ताल में बैठे। युवा कांग्रेस ने चेताया कि ये क्रमिक अनशन तब तक जारी रहेगा, जब तक उनकी मांगों पर सरकार उचित कदम नहीं उठाती। मीडिया से बातचीत में निगम भंडारी ने कहा कि क्रमिक भूख हड़ताल के दौरान सभी जिला पुलिस मुख्यालयों में हस्ताक्षर अभियान भी चलाया गया है। इसमें नॉन पॉलिटिकल युवा जो इस पेपर लीक भर्ती मामले में शिकार हुए हैं, उनके अभिभावकों को भी शामिल किया गया है। उन्होंने कहा कि यह उन परीक्षार्थियों के साथ अन्याय है, जिन्होंने परीक्षा के लिए कठोर मेहनत की थी।
PunjabKesari, Signature Campaign Image

युवा भुगत रहे सरकार व प्रशासन की लापरवाही का खमियाजा
निगम भंडारी ने आरोप लगाया कि प्रदेश सरकार व प्रशासन की लापरवाही का खमियाजा युवाओं को भुगतना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि पुलिस में भर्ती होने के लिए 74 हजार युवाओं ने परीक्षा दी थी, जिन अभ्यर्थियों ने अपनी मेहनत से परीक्षा पास कर ली थी, उनकी इसमें क्या गलती थी। भंडारी ने कहा कि जिन्होंने ये परीक्षा पास की थी उनकी मेहनत व आशाओं पर सरकार ने पानी फेर दिया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री, मंत्री व पुलिस डीजीपी नाटी डालने में मस्त हैं, उनको नौजवान युवाओं के साथ हो रहे बार-बार अन्याय व भविष्य की कोई चिंता नही है। इस मौके पर जिला युवा कांग्रेस शिमला ग्रामीण के अध्यक्ष रविंद्र ठाकुर टिनू, शहरी अध्यक्ष अंकुश कुमार गोनू, महेश सिंह ठाकुर, राहुल नेगी, आदि मौजूद रहे।

ये हैं 5 मुख्य मांगें
युवा कांग्रेस पेपर लीक मामले में 5 मुख्य मांगों को लेकर क्रमिक भूख हड़ताल पर बैठी है। इनमें डीजीपी संजय कुंडू को तुरंत बर्खास्त करने, सरकार द्वारा गठित एसआईटी को फ्री हैंड देने, जिस एसआईटी अधिकारी के ऊपर उंगली उठ रही है, उसको तत्काल हटाए जाने, एसआईटी द्वारा हाईकोर्ट के सीटिंग जज की निगरानी में कार्य करने व कितने समय में पेपर लीक मामले का फैसला सुनाया जाएगा, इसके बारे में सरकार द्वारा समय सीमा तय करने की मांग की गई है।

पहले अपने गिरबान में झांक कर देख ले काग्रेस : अमित ठाकुर
भाजपा युवा मोर्चों के प्रदेशाध्यक्ष अमित ठाकुर ने कहा कि जो पेपर लीक होने का मामला सामने आया है, वह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। इस मामले की जांच को लेकर सरकार ने एसआईटी का गठन किया है और जांच जारी है तथा जल्द ही दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। उन्होंने कहा कि जो भी दोषी होंगे, उन पर कड़ी कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का इतिहास स्वयं भ्रष्टाचार का रहा है, ऐसे में उनके नेताओं को कुछ भी बोलने से पहले अपने गिरबान में झांक कर देख लेना चाहिए कि उनके राज में किस तरह से सरकारी भर्तियों में भाई-भतीजावाद का खेल चलता था।

निष्पक्ष जांच होना बेहद आवश्यक : गौरव शर्मा
उधर, आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता गौरव शर्मा ने कहा कि पुलिस भर्ती के नाम पर एक बड़े भ्रष्टाचार को अंजाम दिया गया है। ऐसे में इस मामले की निष्पक्ष जांच होनी बेहद आवश्यक है ताकि प्रदेश के युवाओं को पता लगे कि किसके इशारे पर ये खेल खेला गया और किस-किस की संलिप्ता इसमें है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार इस मामले की जांच हाईकोर्ट के सीटिंग जज से करवाए या फिर सीबीआई को जांच अग्रेषित करें।

हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vijay

Related News

Recommended News