शिमला में बारिश ने तोड़ा 42 साल का रिकॉर्ड, 24 घंटों में 83 मिलीमीटर बारिश दर्ज

4/22/2021 10:17:50 PM

शिमला (राजेश): हिमाचल की राजधानी शिमला में बारिश ने 42 साल का रिकॉर्ड तोड़ा है। प्रदेश के मैदानी व मध्य पर्वतीय इलाकों में लम्बे समय बाद जमकर बादल बरस रहे हैं। राजधानी शिमला में 42 साल बाद ऐसी बारिश हुई है जो लगातार रही और इस दौरान 24 घंटों में शिमला में 83 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग के अनुसार इससे पहले वर्ष 1979 में 15 अप्रैल को शिमला में 111 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई थी। शिमला में पिछले 2 दिनों से मूसलाधार बारिश हो रही है।

बारिश से सूखे का संकट खत्म

शिमला में देर रात जमकर बारिश और ओलावृष्टि होती रही और बारिश का दौर वीरवार को भी जारी रहा। बारिश से राजधानी में सूखे का संकट खत्म हो गया है। प्रदेश के जनजातीय क्षेत्रों में अप्रैल माह में व्यापक बर्फबारी हो रही है। लाहौल-स्पीति और किन्नौर सहित ऊंचाई वाले इलाकों में 3 दिन से बर्फबारी का क्रम जारी है जिससे सामान्य जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। 

इन क्षेत्रों में भी भारी बारिश

शिमला सहित कुल्लू में भी जमकर बादल बरसे हैं। कुल्लू के कोठी में 67 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई। पिछले 24 घंटों में मनाली में 61, जोङ्क्षगद्रनगर में 50, डल्हौजी में 39, टिंडर और बैजनाथ में 35, तीसा में 34, बंजार और छतराड़ी में 33 मिलीमीटर बारिश हुई। उधर, उच्च पर्वतीय इलाकों में रुक-रुक कर बर्फबारी का दौर जारी है। भारी बर्फबारी से मनाली-लेह मार्ग पर वाहनों की आवाजाही प्रभावित हुई है।

किन्नौर व लाहौल में शून्य से नीचे तापमान

किन्नौर और लाहौल-स्पीति में तापमान शून्य से नीचे पहुंच गया है। लाहौल-स्पीति का मुख्यालय केलांग राज्य का सबसे ठंडा स्थल रहा, जहां न्यूनतम तापमान -0.7 डिग्री सैल्सियस रिकॉर्ड किया गया। इसी तरह किन्नौर के कल्पा में पारा -0.6 डिग्री सैल्सियस रहा। शिमला में न्यूनतम तापमान 4 डिग्री सैल्सियस रिकॉर्ड हुआ है। इसके अलावा मनाली में 4.4, कुफरी में 4.8, डल्हौजी में 5.8, धर्मशाला में 8.8, भुंतर में 9.4, पालमपुर में 10, सोलन में 11.5, मंडी में 12, हमीरपुर में 13.4, बिलासपुर में 14 और ऊना में 15.4 डिग्री सैल्सियस रिकॉर्ड हुआ है।

क्या कहते हैं मौसम विभाग के निदेशक

मौसम विभाग के निदेशक डॉ. मनमोहन सिंह ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने से प्रदेश में बारिश, बर्फबारी और ओलावृष्टि हो रही है। उन्होंने कहा कि अगले 24 घंटों में प्रदेश के मैदानी व मध्य पर्वतीय इलाकों में खराब मौसम का यैलो अलर्ट रहेगा। मैदानी भागों में 24 से 28 अप्रैल तक मौसम साफ  रहेगा। मध्य पर्वतीय व उच्च पर्वतीय इलाकों में 24 से 27 अप्रैल तक मौसम साफ  रहेगा, वहीं इन हिस्सों में 28 अप्रैल को मौसम के फिर बिगडऩे के आसार हैं।


Content Writer

Vijay

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static