धान की फसल बेचने हेतू नहीं जाना पड़ेगा पंजाब, कांगड़ा में राइस मिल को लेकर विचार शुरू

9/9/2021 11:40:54 AM

धर्मशाला (नृपजीत निप्पी) : अब जिला के किसानों को धान की फसल को बेचने के लिए पंजाब का रुख नहीं करना पड़ेगा, क्योंकि जिला कांगड़ा में राइस मिल स्थापित करने को विचार आरंभ हो गया है। इसी कड़ी में जिला प्रशासन ने संबंधित विभागीय अधिकारियों से बैठक की तथा इसके लिए निजी पार्टियों को भी आमंत्रित करने की योजना बनाई गई है। जिला प्रशासन की मानें तो राइस मिल खुलने से जिला के किसानों को राहत मिलेगी, क्योंकि वर्तमान में जिला में कहीं भी राइस मिल नहीं है। जिला के विभिन्न हिस्सों में धान की खेती होती है,ऐसे में राइस मिल खुलने से एफसीआई के माध्यम से किसानों की फसल को लिया जा सकेगा।

जानकारी के अनुसार फूड कारपोरेशन आॅफ इंडिया (एफसीआई) का नियम है कि राज्य में राइस मिल होनी जरूरी है, जहां से फसल लेनी है उसकी दूरी साइस मिल से 40 किलोमीटर से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। जिला में राइस मिल न होने के चलते किसानों को आशंका है कि उन्हें दिक्कतें आएंगी। डीसी कांगड़ा डाॅ. निपुण जिंदल ने बताया कि जिला में राइस मिल स्थापित करने को लेकर डीएफसी, एफसीआई के डीएम, एपीएमसी के सचिव, डीआईसी के जीएम से बैठक करके विचार किया गया कि राइस मिल स्थापित करते हैं। इसकी स्थापना से किसानों को अपनी फसल पंजाब नहीं ले जानी पड़ेगी और उन्हें राहत मिलेगी। इसके लिए निजी पार्टियों से भी एप्रोच किया है, सरकार की ओर से भी ऐसी पार्टियों को विभिन्न योजनाओं का लाभ मिलेगा। इसके लिए निजी पार्टियां डीएफसी या डीसी कार्यालय में संपर्क कर सकती हैं।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

prashant sharma

Recommended News

static