नहीं देखी होगी ऐसी देव खेल, गुरों ने नुकीले हथियारों से शरीर पर किए कई वार

2/28/2020 10:49:05 AM

मंडी (पुरुषोत्तम): ऐतिहासिक सेरीमंच पर वीरवार को देव खेल की सदियों पुरानी परंपरा का निर्वहन किया गया, जिसे देख लोग दंग रह गए। जब गुरों ने नुकीले देव हथियारों से अपने शरीर पर कई वार किए तो सब जयकारे लगाने लगे। मंडी में सदियों से मनाए जाने वाले शिवरात्रि महोत्सव में देव खेल का आयोजन होता था लेकिन रजवाड़ाशाही के समाप्त होने के बाद जब शिवरात्रि मेले की बागडोर प्रशासन के हाथों में आई तो देव खेल की परंपरा भी बंद हो गई थी। बीते वर्ष जिला प्रशासन और देव समाज ने मिलकर इस परंपरा को शुरू करने का निर्णय लिया था।
PunjabKesari, Dev Khel Image

ऐतिहासिक सेरीमंच पर किया देव खेल का आयोजन
परंपरा के शुरू करने के बाद हालांकि कुछ लोगों ने इसका विरोध भी किया लेकिन देव समाज का प्रतिनिधित्व करने वाले लोगों ने देव खेल के इतिहास को सामने रख इस परंपरा को यथावत जारी रखने का निर्णय लिया। वीरवार को मंडी शहर के ऐतिहासिक सेरीमंच पर इस देव खेल का आयोजन किया गया, जिसे देखने के लिए हजारों की संख्या में लोगों की भीड़ सेरीमंच पर पहुंची। इस मौके पर अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी श्रवण मांटा व सर्व देवता सेवा समिति के अध्यक्ष पंडित शिवपाल शर्मा समेत अन्य लोग मौजूद रहे।
PunjabKesari, Dev Khel Image

हुरंग नारायण के आह्वान पर होती है देव खेल
देव खेल में चौहारघाटी के 9 देवी-देवताओं हुरंग नारायण, देव पशाकोट, घड़ौनी नारायण, देव तरैलू गैहरी, देव भथेरी गैहरी, दरूण गैहरी, गलू का गैहरी, पेखरा गैहरी व देव भद्रकाली आरंगसमेत पुजारियों व बजंतरियों ने भाग लिया। देव खेल हिमाचल प्रदेश की प्राचीन देव संस्कृति का अहम हिस्सा है और देव खेल का अधिक प्रचलन मंडी जिला की चौहारघाटी में है। यहां देव हुरंग नारायण को आराध्य देव माना जाता है और यह देव खेल इनके आह्वान पर ही होती है।
PunjabKesari, Dev Khel Image

रियासतकालीन देव परंपरा का किया निर्वहन
देव खेल में देव हुरंग नारायण के मुख्य पुजारी राम लाल ने पूजा-अर्चना करने के बाद देवता की शक्तियों का आह्वान कर रियासतकालीन इस देव खेल परंपरा का प्रदर्शन किया। पहले देवता की विधिवत पूजा हुई और उसके बाद दैवीय शक्तियों का आह्वान किया। पुजारी ने बताया कि जब यह सारी धार्मिक प्रक्रिया होती है तो उसे उस समय कुछ भी याद नहीं रहता है। यह सब देवता के आदेश से ही संभव होता है। देव खेल से जहां इलाके को सुरक्षा का कवच मिलता है, वहीं मौके पर मौजूद लोग यदि कोई मनोकामना मांगते हैं तो उसकी पूर्ति भी होती है। देव खेल में हालांकि अन्य देवी-देवताओं के पुजारी भी शामिल हुए लेकिन सिर्फ  देव हुरंग नारायण के पुजारी ने ही इस परंपरा का निर्वहन किया।
PunjabKesari, Dev Khel Image

देव खेल में पुजारी नहीं कर सकते बात
देव खेल के दौरान किसी भी पुजारी को बात करने की अनुमति नहीं होती, इसलिए सभी अपना मुंह बंद रखते हैं। सेरीमंच पर देव खेल के बाद सभी देवी-देवता राज देवता माधवराय के दरबार में पहुंचे, जहां गुरों ने राज देवता का आशीर्वाद लिया।


Vijay

Related News