Watch Pics: बल्ह का ‘दर्द’ भूले मंत्री, बोले- मुझे नहीं पता

Watch Pics: बल्ह का ‘दर्द’ भूले मंत्री, बोले- मुझे नहीं पता

मंडी (नीरज): मंडी जिला की बल्हघाटी 'मिनी पंजाब' के नाम से जानी जाती है। पहाड़ी राज्य में यह ऐसी घाटी है जहां का अधिकतर इलाका मैदानी है और इसके बीचों बीच बहती है सुकेती खड्ड। इस मैदानी इलाके में बहने वाली सुकेती खड्ड साल भर अमूमन शांत रहती है लेकिन बरसात में इसका रूद्र रूप हर किसी की रूह कंपा देता है। इस खड्ड में इतना अधिक जलभराव हो जाता है कि पानी खड्ड से बाहर आकर लोगों के खेतों की ओर अपना रूख कर देता है। 
PunjabKesari

साल 2007 में इस खड्ड के पानी ने मचाई थी भयंकर तबाही
साल 2007 में तो इस खड्ड के पानी ने इतनी भयंकर तबाही मचाई थी कि गुटकर की ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री भी इसकी चपेट में आ गई थी। यही कारण था कि इस खड्ड के चैनलाइजेशन की मांग उठी और वर्ष 2012 के चुनावों में कांग्रेस प्रत्याशी ने इसके चैनलाइजेशन का वादा किया। 5 साल बीत जाने के बाद भी इस खड्ड का चैनलाइजेशन नहीं हो सका। यहां कि जनता आज भी खड्ड के चैनलाइजेशन का इंतजार कर रही है। इस बारे में हमने बल्ह से कांग्रेस के विधायक व प्रदेश सरकार में आबकारी एवं कराधान मंत्री प्रकाश चौधरी से भी बात की। चौधरी ने कहा कि चैनलाइजेशन की डीपीआर बना दी गई थी, लेकिन काम क्यों नहीं हो सका इसकी उन्हें भी कोई जानकारी नहीं है। 


चैनलाइजेशन का वादा नहीं हो सका पूरा
मंत्री जी हवाला देते हैं कि केंद्र ने नदी-नालों के चैनलाइजेशन पर रोक लगा दी थी जिस कारण यह काम भी नहीं हो सका। बहरहाल खड्ड का कहर बरपाने का सिलसिला लगातार जारी है और यहां के किसान अभी भी इस इंतजार में हैं कि शायद इस खड्ड का कभी न कभी तो चैनलाइजेशन होगा ही। लेकिन जनता को अब यह मालूम होने वाला है कि खड्ड के कहर बरपाने का सिलसिला इसी प्रकार से जारी रहने वाला है, क्योंकि यह चुनावी वादा पूरा नहीं हो सका है।
 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !