पहले वक्फ बोर्ड की संपत्ति से कब्जा छोड़े मौलाना मुमताज अहमद कासमी: राजबली

2/23/2021 12:57:44 PM

शिमला (योगराज) : हाल ही में मुस्लिम के क्षेत्रीय जमायत ए उलेमा द्वारा प्रदेश सरकार पर लगाये गए भेदभाव और अधिकारों की रक्षा न करने के आरोपी का खंडन करते हुए वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष राजबली ने मौलाना मुमताज अहमद काजमी पर गंभीर आरोप लगाए हैं। राजबली ने बताया कि मौलाना ने वक्फ बोर्ड की संपति पर कब्जा किया है और हाई कोर्ट के निर्देश के बावजूद भी मौलाना संपति को  छोड़ने को राजी नहीं है। भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के अध्यक्ष एवं वक्फ बोर्ड के प्रदेश अध्यक्ष राजबली ने शिमला में कहा कि कुछ मुस्लिम लोग मुस्लिम समाज को भ्रमित करने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि जयराम ठाकुर के नेतृत्व में हिमाचल सरकार मुस्लिम समाज के लिए अद्भुत कार्य कर रही है। आज से पहले ऐसा नहीं हुआ कि किसी सरकार ने 11 योजनाएं मुस्लिम समुदाय के लिए लाई है।

उन्होंने कहा कि मौलाना मुमताज अहमद कासमी जिस प्रकार से सरकार के ऊपर निराधार आरोप लगा रहे हैं वह तथ्य हीन और गलत है। स्वयं यह व्यक्ति वक्फ बोर्ड की संपत्ति पर कब्जा करके बैठा है, मौलाना कासमी वक्फ बोर्ड के रेस्ट हाउस के 11 कमरों पर स्वयं कब्जा कर के बैठे हैं जिसमें मुस्लिम गरीब लोग रहे सकते थे। वक्फ बोर्ड ट्रिब्यूनल धर्मशाला ने उनके खिलाफ निर्देश दिए हैं और हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय ने भी उनको 32 लाख का खामियाजा दंड लगाया है साथ ही इस रेस्ट हाउस को खाली करने के आदेश भी जारी किए हैं। मौलाना आज तक इस रेस्ट हाउस पर कब्जा कर बैठे हैं। उन्होंने कहा कि यह व्यक्ति इस रेस्ट हाउस में एक अवैध मदरसा भी चला रहा है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर कोविड-19 के संकट काल के समय मुस्लिम समाज के व्यक्ति को हर प्रदेश से हिमाचल में वापस लाए है। उन्होंने कहा कि कुछ मुस्लिम समाज की बी टीम जिनकी नगर सरकारी और पदों पर है, इन लोगों को उकसा रहा है और वक्फ बोर्ड को चलता नहीं देख पा रहा है। उन्होंने बताया कि हज जाने वाले लोगों के शिविर भी लग रहे हैं और उनका प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। हिमाचल प्रदेश में जयराम ठाकुर सरकार मुस्लिम समुदाय के हक में हैं और इस समाज के लिए बढ़ चढ़कर कार्य भी कर रही है। 
 


Content Writer

prashant sharma

Recommended News