लाखों के लेन-देन का मामला : पूर्व स्वास्थ्य निदेशक स्पैशल कोर्ट में पेश, 5 दिन के रिमांड पर भेजा

5/26/2020 5:11:32 PM

शिमला (ब्यूरो): कोरोना काल में स्वास्थ्य उपकरण खरीद मामले में विजिलैंस के शिकंजे में फंसे स्वास्थ्य विभाग के सस्पैंड निदेशक डॉ. अजय गुप्ता को बीते कल अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद जिला अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे 5 दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा दिया है। कोरोना कर्फ्यू के चलते कोर्ट बन्द है लेकिन मामले की गंभीरता को देखते हुए आरोपी को जिला सैशन जज अरविंद मल्होत्रा की विशेष अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे रिमांड पर भेज गया है। बता दें कि डॉ. गुप्ता ने जमानत के लिए अदालत में अर्जी भी लगाई है, जिस पर 28 मई को सुनवाई होगी। जिला अटॉर्नी विजिलैंस संदीप अत्री ने आरोपी के 5 दिन के पुलिस रिमांड लेने की पुष्टि की है।

क्या बोले पूर्व स्वास्थ्य निदेशक के वकील

लाखों के लेन-देन मामले में गिरफ्तार पूर्व स्वास्थ्य निदेशक के वकील कश्मीर सिंह ठाकुर ने कहा कि डॉ. एके गुप्ता निर्दोष हैं। कमेटी की देखरेख में स्वास्थ्य उपकरण की खरीद की जाती है। अभी तक ऑडियो की सत्यता की भी जांच नही की गई है। यदि मामले में डॉ.एके गुप्ता दोषी है तो स्वास्थ्य उपकरण खरीद के लिए बनी कमेटी भी उतनी ही दोषी है। उन्होंने कहा कि प्रिवेंशन ऑफ करप्शन सैक्शन 7, 8 के तहत डॉ. गुप्ता को गिरफ्तार किया गया। सैक्शन 7 में लेने वाले के खिलाफ कार्रवाई की जाती है जबकि 8 में देने वाला के खिलाफ कार्रवाई की जाती है लेकिन यहां रिश्वत लेने वाले को तो गिरफ्तार कर लिया जबकि रिश्वत देने वाले को गिरफ्तार नहीं किया है।

विजिलैंस ने 20 मई को किया था गिरफ्तार

बता दें  कि डॉ. एके गुप्ता को विजिलैंस ने 20 मई की रात को गिरफ्तार किया था तब से लेकर खराब स्वास्थ्य के चलते वह आईजीएमसी में भर्ती थे। सोमवार को उन्हें कैथू जेल शिफ्ट किया गया था। डॉ. गुप्ता को स्वास्थ्य विभाग में मेडकिल खरीद में हुई गड़बड़ी में विजिलेंस ने गिरफ्तार किया है। एक 43 सैकेंड का ऑडियो क्लिप वायरल होने के बाद डॉ. गुप्ता को गिरफ्तार किया गया था। अब मामले के तार भाजपा नेताओं के साथ भी जुड़े होने की बात सामने आ रही है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Vijay

Related News

Recommended News