हाटियों का मुद्दा सिरे चढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे : जयराम

punjabkesari.in Thursday, Mar 31, 2022 - 10:40 PM (IST)

कफोटा (नाहन)(एसआर पुंडीर): हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के वीरवार को शिलाई चुनाव क्षेत्र के एकदिवसीय दौरे के दौरान कफोटा में हाटियों ने उनका जबरदस्त स्वागत-अभिनंदन किया। इस दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हाटियों का मुद्दा सिरे चढ़ाने में वह कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेंगे। जिस तरह गिरिपार क्षेत्र के लोगों के यह मुद्दा हृदय के बहुत करीब है, उसी तरह वह इसे पूरा करवाने के लिए संकल्पबद्ध हैं। जयराम ठाकुर ने कहा कि गिरिपार क्षेत्र को जनजातीय क्षेत्र घोषित करने के लिए हम गंभीरता से जुटे हैं। प्रदेश सरकार ने केंद्र सरकार को सर्वे रिपोर्ट भेजी है तथा आने वाले समय में एक प्रतिनिधिमंडल प्रधानमंत्री से मिलेगा। कफोटा में जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस सरकार जाते समय घोषणा करती थी और हमने सत्ता में आते ही घोषणाएं कर उन्हें पूरी कर लोग को सुविधाएं दी हैं। हम पहाड़ी आदमी हैं, गांव के रहने वाले हैं, इसलिए झूठ नहीं बोलते।

हाटियों के प्रतिनिधिमंडल के साथ दिल्ली जाकर गृह मंत्री से मिलेंगे

मुख्यमंत्री ने कहा कि हाटी प्रतिनिधिमंडल से मिलने के बाद वह स्वयं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के सामने इस मुद्दे को उठा चुके हैं। रजिस्ट्रार जनरल से भी शीघ्र इस संबंध में पॉजिटिव रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है। उन्होंने कहा कि निकट भविष्य में गृह मंत्री के शिमला दौरे के दौरान हाटियों का एक प्रतिनिधिमंडल गृह मंत्री से मिलेगा और उनके समक्ष अपना केस रखेगा। इसके अलावा हाटियों के प्रतिनिधिमंडल के साथ दिल्ली जाकर भी गृह मंत्री से मिलने का कार्यक्रम बनाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना को खत्म करने का श्रेय प्रदेश की जनता को जाता है, जिसने वैक्सीनेशन में सरकार का सहयोग किया। 

अजीब है-एक भाई ट्राइबल और दूसरा नहीं

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह बड़ी विचित्र बात है कि एक भाई टोंस नदी के पार जौंनसार में रहता है, वह तो ट्राइबल है मगर दूसरा भाई नदी आर सिरमौर में रहता है, उसे छोड़ दिया गया। दोनों क्षेत्रों के रीति-रिवाज, विश्वास तथा सामाजिक व आर्थिक स्थिति एक जैसी है। इस मुद्दे को सिरे चढ़ाने के लिए केंद्र सरकार को उन्होंने लगातार पत्र भी लिखे हैं और बाकी प्रयास भी किए जा रहे हैं।

राजनीतिक प्रतिशोध की राजनीति खत्म की

मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल में लंबे समय से राजनीतिक प्रतिशोध की भावना से काम किया जा रहा था। यहां तक कि सरकारें आते ही टोपी भी बदल जाती थी। उन्होंने इस राजनीतिक सोच को हिमाचल के पहाड़ों से अलविदा कर दिया है। टोपी हिमाचल की है, उसका मान-सम्मान होना ही चाहिए, मगर विभाजन नहीं।  

करारी हार के बाद कांग्रेसियों की उछलकूद बंद

मुख्यमंत्री ने कहा कि जब देश के 5 राज्यों में चुनाव चल रहे थे तो विपक्ष के विधायक विधानसभा में लगातार उछलकूद कर यह ऐलान करते थे कि पांचों राज्यों में वह अब आए और अब आए। जिस दिन चुनाव का नतीजा निकला तो 4 राज्यों में भाजपा की सरकारें रिपीट हो गईं और पंजाब भी कांग्रेस के हाथ से चला गया, उस दिन विधानसभा में प्रतिपक्षी उनसे नजरें नहीं मिला रहे थे, नजरें फर्श पर गड़ी हुई थीं। बस उसी दिन से इनकी उछलकूद बिल्कुल बंद है और अब वे शांत हैं। 

रिवाज बदल गया है, हिमाचल में भाजपा रिपीट होगी

जयराम ठाकुर ने कहा कि विपक्षी नेता विधानसभा और बाहर यह कहते नहीं थकते थे कि उत्तराखंड व उत्तर प्रदेश सहित सभी राज्यों में रिवाज है कि हर 5 वर्ष के बाद सरकार बदल जाती है। हिमाचल में भी भाजपा के जाने की बातें रोज की जा रही थीं। मगर वे कान खोल कर सुन लें, रिवाज अब बदल चुका है। सब जगह भाजपा सरकारें रिपीट हुई हैं और अब हिमाचल में भी भाजपा सरकार रिपीट होगी।

हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vijay

Related News

Recommended News