दलित वोटरों ने आयोग को भेजा ज्ञापन, कहा- आजादी के बाद भी एक बार आरक्षित नहीं हुआ सराज

दलित वोटरों ने आयोग को भेजा ज्ञापन, कहा- आजादी के बाद भी एक बार आरक्षित नहीं हुआ सराज

मंडी(नीरज शर्मा) : विधानसभा चुनावों के दौरान आरक्षण का मुद्दा भी गर्माता हुआ नजर आ रहा है। प्रदेश में बहुत से ऐसे विधानसभा क्षेत्र हैं जो आज दिन तक एससी/एसटी के लिए आरक्षित ही नहीं हुए हैं और इन्हीं में से एक है सराज विधानसभा क्षेत्र। दरअसल, पहले इस विधानसभा क्षेत्र का नाम चच्योट था लेकिन वर्ष 2012 को डिलिमिटेशन के कारण इसे सराज का नाम दिया गया। इस विधानसभा क्षेत्र पर शुरू से ही ठाकुरों का अधिक वर्चस्व रहा है। सिर्फ एक बार पंडित प्रत्याशी को जीत मिली थी जबकि एससी/एसटी के प्रत्याशी तो कभी यहां नजर भी नहीं आए।
PunjabKesari
चुनाव आयोग से किया विचार
यही कारण है कि सराज विधानसभा क्षेत्र में एससी और एसटी समुदायों से जुड़े लोगों ने चुनाव आयोग को पत्र भेजकर इस विधानसभा क्षेत्र का एससी या फिर एसटी के आरक्षित करने की मांग उठाई है। लोगों का कहना है कि सराज विधानसभा क्षेत्र में एससी/एसटी का करीब 33 प्रतिशत वोट है और आजादी के बाद एक बार भी इस विधानसभा क्षेत्र को आरक्षित नहीं किया गया है। इन्होंने चुनाव आयोग से इसपर विचार करते हुए इस विधानसभा क्षेत्र को एससी/एसटी के लिए आरक्षित करने की मांग उठाई है।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!