कांग्रेस का चीन से क्या है आंतरिक समझौता, करें सार्वजनिक : प्रवीण

7/6/2020 9:58:39 PM

ऊना (सुरेन्द्र): जहां प्रधानमंत्री मोदी देश के सैनिकों का मनोबल फॉरवर्ड पोस्ट पर जाकर बढ़ा रहे हैं, वहीं कांग्रेस पार्टी और उसके नेता लगातार सेना और सैनिकों के मनोबल को गिराने के लिए प्रयासरत हैं। यह बात आज यहां जारी बयान में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश के उपाध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री प्रवीण शर्मा ने कही। उन्होंने कहा कि गलवान की घटना के पश्चात पिछले 30 दिनों से लगातार कांग्रेस और उसके नेता अपने निजी एजैंडे के चलते मोदी सरकार के साथ तो खड़े नहीं दिखे लेकिन कांग्रेसी नेता यह अवश्य बताएं कि उनकी क्या मजबूरी है कि वे भारतीय सेना के पराक्रम पर लगातार प्रश्नचिन्ह लगा रहे हैं?

उन्होंने पूछा कि कांग्रेस को बताना होगा कि डोकलाम के समय कांग्रेस के नेताओं ने चीन के साथ मिलकर गुपचुप मीटिंग कर क्या भारतीय सीमाओं को छिन-भिन्न करने की पेशकश की थी। जहां आज मोदी सरकार के समय सेना के बड़े स्तर के अधिकारी अग्रिम पोस्ट पर तैनात होकर चीन को खदेडऩे की योजना बना रहे हैं, वहीं 1962 के युद्ध के समय दिल्ली दरबार ने सेना के अधिकारियों को एल.ए.सी. से पीछे बुला लिया था। ऐसे ही दुर्बल निर्णयों के कारण देश का लगभग 43,000 कि.मी. क्षेत्र चीन के कब्जे में है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को इन दुर्बल निर्णयों का कारण देश की सवा सौ करोड़ जनता को बताना होगा। चीन लगातार विस्तारवादी सोच के चलते भारत की सीमा के लद्दाख, सिक्किम और यहां तक कि अरुणाचल प्रदेश के साथ लगती एल.ए.सी. पर आगे बढऩे का प्रयास कर रहा है लेकिन चीन के इस कुप्रयास को मोदी सरकार ने सफल विदेश नीति के कारण आज विफल किया है।

प्रवीण शर्मा ने बताया कि वर्ष 1999 में हिमाचल संगठन के प्रभारी रहते हुए मोदी उस वक्त के हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल व तत्कालीन विधानसभा स्पीकर गुलाब सिंह के साथ कारगिल युद्ध के दौरान भी सेना और सैनिकों का मनोबल बनाए रखने के लिए अग्रिम पोस्ट पर गए थे। मोदी उस समय किसी भी प्रशासनिक पद पर नहीं थे सिर्फ देश, सेना और सैनिकों के प्रति यह जज्बा ही था कि वह अग्रिम सीमा पर निर्भीक चले गए थे लेकिन यह दुर्भाग्य ही है कि कांग्रेस के नेता मात्र ए.सी. कमरों में बैठकर राजनीतिक टीका-टिप्पणी ही कर सकते हैं और राष्ट्रहित के कार्यों में बिना थके खोट निकालने में लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा ही भारत की अस्मिता से खेलने का प्रयास किया है।


Kuldeep

Related News