हमीरपुर के सांसद के अब दूरदर्शन पर ही होते हैं दर्शन : राजेंद्र राणा

9/23/2020 5:31:40 PM

हमीरपुर (ब्यूरो): करीब 9 महीने से हमीरपुर के सांसद के दर्शन क्षेत्र में नहीं हुए हैं। महंगाई व महामारी के संकट से जूझ रही जनता को अब उनके दर्शन सिर्फ दूरदर्शन पर ही होते हैं। यह आरोप राज्य कांग्रेस उपाध्यक्ष एवं विधायक राजेंद्र राणा ने जारी प्रैस बयान में लगाए हैं। उन्होंने कहा कि सत्ता स्वार्थ की राजनीति करते हुए अपने वरिष्ठ नेताओं की आंख का तारा बनने का असफल प्रयास कर रहे सांसद देश के महरूम हो चुके नेताओं पर अभद्र टिप्पणियां करना उनकी आदत में शुमार है। 

यह पहला मौका नहीं है कि जब सांसद ने अपनी जवाबदेही व जिम्मेदारी से भागते हुए मरहूम राजनेताओं व गांधी परिवार के खिलाफ अभद्र टिप्पणियां की हैं। इससे पहले भी वह प्रदेश के दिग्गज नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के खिलाफ छिनाल टिप्पणी करके अपनी मानसिकता का परिचय दे चुके हैं। हैरानी यह है कि संसद में हमीरपुर के सांसद बेमकसद की अभद्र टिप्पणियां करके जनता का ध्यान अपनी ओर खींचने का असफल प्रयास कर रहे हैं जबकि संकट में घिरी जनता के असल मुद्दों पर वह लगातार बचते रहे हैं।

इतना ही नहीं, हमीरपुर के सांसद ने कोविड-19 संकटकाल में घिरी अपने क्षेत्र की जनता का हालचाल जानना भी मुनासिब नहीं समझा है। जबकि प्रदेश के अन्य सांसद व विधायक संकट की इस घड़ी में जनता के बीच पहुंच कर उनका मनोबल बढ़ाने का प्रयास करते रहे हैं। जहां तक मदद का सवाल है तो मदद भी कर रहे हैं, लेकिन हमीरपुर के सांसद तो सिर्फ सैलिब्रिटी बनकर दूरदर्शन पर ही दर्शन देते रहे हैं। राणा ने कहा कि सांसद यह न भूलें कि देश को आजाद करवाने में और देश की प्रगति करवाने में गांधी परिवार का अमूल्य योगदान ही नहीं रहा है, बल्कि इस परिवार में से दो-दो प्रधानमंत्रियों ने देश के लिए अपने प्राण न्यौच्छावर करके देश की अखंडता को कायम रखा है।

उन्होंने बिना नाम लिए हुए कहा कि हमीरपुर के सांसद पहले भी देश की सर्वोच्च अदालत सुप्रीम कोर्ट में झूठा हल्फनामा देकर प्रदेश की छवि को धूमिल कर चुके हैं। ऐसा लग रहा है कि सांसद का अब तो संसद में गांधी परिवार को गालियां देना व महरूम राजनेताओं पर अभद्र टिप्पणियां करना ही सांसद का एकमात्र काम रह गया है। संसद में पहुंचकर गांधी परिवार को गालियां निकालों और अपने आकाओं की नजर में सही बने रहो। उन्होंने कहा कि सच तो यह है कि हमीरपुर के सांसद करीब 13 वर्षों से कभी सीप्लेन, तो कभी ऐरोप्लेन तो कभी रेल के नाम पर क्षेत्र की जनता को लगातार ठगते आ रहे हैं। बस इसी झूठ की राजनीति को लेकर वह खुद को सुपरस्टार कहलवा रहे हैं। जबकि जमीनी हकीकत यह है कि न सांसद रहते हुए, न केंद्रीय वित्त मंत्री रहते हुए उनका क्षेत्र की जनता को कोई लाभ नहीं मिला है।

उन्होंने कहा कि सांसद की छिनाल टिप्पणियों से प्रदेश के दिग्गज व समझदार नेता लगातार बच रहे हैं। शायद यही कारण है कि अभी वीरभूमि के नाम पर सांसद ने संसद में जिस बात को लेकर हंगामा खड़ा किया था उस हंगामे के पक्ष में बीजेपी के अधिकांश नेता खड़े नहीं हुए जो कि यह बताता है कि सांसद को उनके अपने नेता भी पसंद नहीं करते हैं। राणा ने कहा कि देश की जनता दंगा भड़काने वाले सांसद के उस संवाद को अभी तक नहीं भूली है, जिसमें उन्होंने अपने ही देश के नागरिकों को, देश के गद्दारों को गोली मारो ........ को जैसी अभद्र टिप्पणी की थी।

उन्होंने कहा कि इससे बड़ी शर्म की और क्या बात हो सकती है कि 9 महीने से हमीरपुर संसदीय क्षेत्र का सांसद लापता है  और अब जनता इस बात को चर्चा का विषय बनाती हुई उनको जनादेश देने के लिए पछता रही है। राणा ने कहा कि हिंदुस्तान का शायद ऐसा कोई चुना हुआ प्रतिनिधि होगा कि जो कोविड काल में अपने चुनाव क्षेत्र में न पहुंचा हो। सियासत में यह कीर्तिमान हमीरपुर संसदीय क्षेत्र के सांसद के ही नाम है। अब तो क्षेत्र की जनता यह कहने लगी है कि अगर सुपरस्टार सैलिब्रिटी सांसद के दर्शन करने हैं तो टीवी पर कर लो, अगले चुनावों से पहले अब जनता के बीच नहीं आएंगे।


Vijay

Related News