स्वास्थ्य महकमा चुस्त तो पुलिस सुस्त, नहीं थम रहा प्रदेश में चोरी छिपे प्रवेश का सिलसिला

8/3/2020 3:08:51 PM

ऊना (अमित शर्मा) : हिमाचल प्रदेश में चोरी छिपे प्रवेश का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। कई लोग मुख्य रास्तों की बजाय चोर रास्तों से ऊना जिला की सीमाओं के भीतर प्रवेश कर रहे है जिसमें ज्यादा संख्या प्रवासी श्रमिकों की है। यह लोग जहां सरकार और प्रशासन के नियमों को ठेंगा दिखा रहे है वहीं दूसरों की जान को भी खतरे में डाल रहे है। इस तरह के मामले सामने आने के बाद जहां स्वास्थ्य महकमा चुस्ती दिखाते हुए उन्हें घरों में ही क्वारंटाइन कर रहा है, वहीं पुलिस सूचना के बाद भी कोई कार्रवाई न कर सुस्त रवैया अपना रही है। ऊना में फिर ऐसे मामले सामने आये है जहां यूपी से एक मालवाहक वाहन में पिछले कुछ दिनों से बिना पास श्रमिकों को ऊना पहुंचाने का सिलसिला जारी है, वहीं दो लोग बदायूं से बिना पास चोर रास्तों से ऊना शहर में पहुंचे है। मीडिया द्वारा मामला उठाने के बाद पुलिस सख्त कार्रवाई का दावा कर रही है। 

कोरोना काल में जिला ऊना प्रदेश में लगातार कोरोना का हॉटस्पॉट बना हुआ है। ऊना जिला में दो सौ से अधिक मामले सामने आ चुके है जिसमें से अभी भी 60 के करीब केस एक्टिव है। शुरूआती दौर में जिस तरह की सख्ती जिला ऊना के प्रवेश द्वारों को देखने में मिल रही थी वही सख्ती बॉर्डर्स पर आज भी है। लेकिन कुछ लोग पुलिस को चकमा देकर चोर रास्तों से जिला की सीमाओं में प्रवेश कर रहे है जिसमें से ज्यादा संख्या बाहरी राज्यों से आने वाले श्रमिकों की है। पिछले कुछ दिनों से ऐसे मामलों की तादाद बड़ी है लेकिन पुलिस इस पर अंकुश लगाने में नाकाम साबित हुई है।

जहां कुछ दिन पहले ही 21 श्रमिक नंगल पंजाब से थ्री व्हीलरों में सवार होकर चोर रास्ते में ऊना पहुंच गए थे जिसके बाद मामले की भनक लगते ही पुलिस ने उन्हें उन्हें दोबारा ऊना की सीमा से बाहर कर दिया था। ऐसा ही एक मामला फिर ऊना में सामने आया है। दो लोग चोर रास्तों से होते हुए बदायूं यूपी से ऊना शहर में पहुंच गए जिसकी सूचना स्थानीय लोगों ने स्वास्थ्य विभाग को दी जिसके बाद स्वाथ्य कर्मियों ने उनकी झुग्गियों में पहुंचकर उन्हें होम क्वारंटाइन कर दिया। चोरी छिपे ऊना में प्रवेश करने वाले श्रमिकों ने माना कि वो बिना किसी पास या रजिस्ट्रेशन के आये है। उन्होंने बताया कि यूपी से दिल्ली और दिल्ली से नंगल पंजाब तक बस में पहुंचे और उसके बाद नंगल से पैदल ही मुख्य बॉर्डर से ना होकर खेतों और दूसरे रास्तों से ऊना आये है। 

जब हमारी टीम ने अपने स्तर पर मामले की जांच की तो पता चला की एक प्रवासी अपने मालवाहक वाहन में भी यूपी से लोगों को ऊना ला रहा है। कैमरा के आगे खुद एक मालवाहक वाहन के चालक राजेश ने माना कि वो यूपी से दो बार लोगों को ऊना लेकर आया है। उसने बताया कि ऊना के प्रवेश द्वार मैहतपुर में पुलिस नाके से पहले ही लोगो को उतार देता है और खुद खाली गाड़ी लेकर जिला की सीमा में प्रवेश करता है जबकि उसके साथ आये लोग दूसरे रास्तों से ऊना में एंट्री करते है। 

वहीं चोरी छिपे जिला में पहुंचने वाले लोग स्वास्थ्य विभाग के लिए भी सिर दर्द बने हुए है। कई दफा तो लोग ऐसे लोगों की जानकारी दे देते है लेकिन कुछ लोगों की सूचना स्वास्थ्य महकमे तक नहीं पहुंचती है। स्वास्थ्य कर्मी ने बताया कि चोरी छिपे आने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए तभी इस पर रोक लग पायेगी। स्वास्थ्य कर्मी ने माना कि उन्होंने खुद पुलिस को ऐसे मामलों के बारे सूचित किया है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं होती। 

एएसपी ऊना विनोद धीमान ने कहा कि पुलिस जल्द ही चोर रास्तों का पता लगाकर उन्हें बंद करेगी। वहीं एएसपी ऊना ने लोगों से चोरी छिपे आने वाले लोगों की सूचना पुलिस को देने की अपील भी की है। एएसपी ऊना ने कहा कि जानकारी छिपकर अगर कोई जिला में प्रवेश करता है तो पुलिस उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाएगी।
 


Edited By

prashant sharma

Related News