हिमाचल में तीसरी, 5वीं और 8वीं कक्षा की होंगी बोर्ड परीक्षाएं : गोविंद ठाकुर

7/31/2021 6:58:22 PM

शिमला (प्रीति): शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा है कि प्रदेश में 8 सितम्बर को नई शिक्षा नीति को लागू किए एक साल हो जाएगा, ऐसे में प्रदेश सरकार शिक्षा के क्षेत्र में उक्त नीति के तहत और नए प्रावधानों को लागू करने जा रही है। हालांकि इस दौरान सरकार ने प्रदेश में तीसरी, 5वीं और 8वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाएं लेने के आदेश जारी कर दिए हैं। इसके तहत उक्त कक्षा के प्रश्र पत्र स्कूल शिक्षा बोर्ड द्वारा तैयार किए जाएंगे। तीसरी कक्षा के पेपर सीएचटी लेवल पर चैक होंगे जबकि 5वीं कक्षा के पेपर की चैकिंग जिला स्तर पर होगी और 8वीं कक्षा के पेपर स्कूल शिक्षा बोर्ड चैक करेगा।

स्कूलों में छठी कक्षा से शुरू किए जाएंगे वोकेशनल कोर्स

शिक्षा मंत्री ने कहा है कि नई शिक्षा नीति के तहत सरकार द्वारा स्टेट स्कूल स्टैंडर्ड अथॉरिटी बनाई जा रही है। इसके कार्यान्वयन का कार्य स्कूल शिक्षा बोर्ड को दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी स्कूलों में प्री-नर्सरी कक्षा शुरू करने के प्रयास किए जाएंगे। स्कूलों में छठी कक्षा से वोकेशनल कोर्स शुरू किए जाएंगे। इसके साथ ही सितम्बर तक सभी स्कूलों के कलस्टर भी बना दिए जाएंगे।

जल्दी में नहीं लाया जाएगा प्राइवेट स्कूलों पर कंट्रोल का बिल

शिक्षा मंत्री ने कहा है कि प्राइवेट स्कू लों पर कंट्रोल का बिल जल्दी में लागू नहीं किया जाएगा। इसको लेकर अभी स्टेक होल्डर्स के साथ बैठकें होंगी। संबंधित लोगों से राय ली जाएगी। हालांकि इसको लेकर सुझाव आए हैं लेकिन अभी सरकार मामले में और चर्चा करेगी। शिक्षा मंत्री ने कहा है कि टैट को आजीवन करने के संबंध में जल्द ही फैसला लिया जाएगा। 

जिला को-ऑर्डीनेशन कमेटी स्कूलों में कोविड के मामलों की करेगी निगरानी

शिक्षा मंत्री ने कहा है कि प्रदेश में 2 अगस्त से स्कूल खुल रहे हैं, ऐसे में जिला को-ऑर्डीनेशन कमेटी स्कूलों में कोविड के नियमों की पालना हो रही है, इस पर चैक रखेगी। उन्होंने कहा कि स्कूलों को अपने स्तर पर माइक्रो प्लान बनाने को भी कहा गया है। स्कूल परिसर में भीड़ एकत्रित न हो, इसके लिए विद्यार्थियों के आने-जाने के समय में 10 से 15 मिनट का अंतर रखा जाएगा। इनके लिए स्कूल आने और वापस जाने का समय भी अलग-अलग होगा। इसके अलावा लंच ब्रेक का समय भी अलग-अलग निर्धारित करने व क्लास का टाइम टेबल और सिटिंग प्लान भी नए सिरे से तैयार करने को कहा गया है। 10वीं, 11वीं और 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों को एक-एक सीट छोड़कर बैठाया जाएगा ताकि शारीरिक दूरी के नियमों की पालना हो सके।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vijay

Recommended News

static