हिमाचल में शिक्षा के मुद्दे पर चुनावी लड़ाई लड़ेगी आप : मनीष सिसोदिया

punjabkesari.in Tuesday, May 17, 2022 - 10:03 PM (IST)

शिमला (राक्टा): दिल्ली के उप मुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने मंगलवार को शिमला स्थित एक होटल में शिक्षकों-अभिभावकों के साथ संवाद किया। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा ने हिमाचल ही नहीं देश में शिक्षा का स्तर गिरा दिया है। उन्होंने कहा कि हिमाचल में सरकारी स्कूलों को लगातार बंद करवाया जा रहा है और महंगे-महंगे प्राइवेट स्कूल को थाल सजाकर लूटने की खुली छूट दी जा रही है। मनीष सिसोदिया ने कहा कि राज्य सरकार के पास शिक्षा को लेकर न कोई विजन है और न ही उचित नीति है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में केजरीवाल सरकार कुल बजट का 25 फीसदी शिक्षा पर खर्च कर रही है। दिल्ली के सरकारी स्कूल अब निजी स्कूलों को टक्कर दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बेहतर शिक्षा का दावा करने वाली भाजपा सरकार ने 5 साल में सैंकड़ों स्कूल बंद कर दिए। वर्ष 2015 में 10 लाख बच्चे सरकारी स्कूलों में पढ़ते थे और आज सिर्फ 8 लाख बच्चे हैं। 2000 स्कूलों में सिर्फ 1-1 शिक्षक है। उन्होंने एक बार हिमाचल विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को मौका देने की अपील की। उन्होंने कहा कि हिमाचल में शिक्षा के मुद्दे पर चुनावी लड़ाई लड़ी जाएगी। उम्मीद है कि इस बार जनता शिक्षा के मुद्दे पर वोट करेगी।

सरकारी स्कूल की भूमि ठेकेदार को बेच डाली
एक अभिभावक द्वारा उठाए गए सवाल के जवाब में सिसोदिया ने कहा कि सरकार चाहे तो एजुकेशन सिस्टम को ठीक किया जा सकता है। इसके लिए भाजपा की तरह पैसे का रोना नहीं रोया जाता। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के गृह जिले में तो सरकारी स्कूल की भूमि एक ठेकेदार को बेच दी गई। इसे आप चुनावी मुद्दा बनाएगी। उन्होंने कहा कि हिमाचल में सारी इंड्रस्टी आ गई लेकिन हिमाचल का विकास नहीं हुआ क्योंकि हिमाचल की इंड्रस्टी से हर साल जितना पैसा भाजपा नेता लेकर जाते हैं, यदि उसका 10 प्रतिशत भी सरकारी खजाने में आ जाए तो स्कूल बनाने के लिए पैसे की कमी नहीं आएगी।

10 बड़े-बड़े फाइव स्टार होटलों में दी रिसैप्शन
दिल्ली के उप मुख्यमंत्री ने सरकार के एक मंत्री पर निशाना साधा। उन्होंने नाम लिए बिना कहा कि संबंधित मंत्री ने हाल ही में अपने बच्चे की शादी करवाई और दिल्ली से लेकर हिमाचल तक 10 बड़े-बड़े फाइव स्टार होटलों में रिसैप्शन दी। उस नेता का इतिहास यह है कि वह राजनीति में आने से पहले 2 कमरों के कच्चे घर में रहता था। उन्होंने पूछा कि मंत्री के पास इतना पैसा कहां से आया?

स्कूल बंद कर कौम को बर्बाद करने का किया काम
मनीष सिसोदिया ने कहा शिक्षा पर चर्चा होना ही सबसे बड़ा बदलाव है। किसी को भी यह सामान्य चर्चा लगे लेकिन यह सामान्य नहीं देश के इतिहास में एक बड़ी घटना है। यदि किसी कौम या समाज को बर्बाद करना हो तो स्कूल बंद कर दो, अगर आबाद करना है तो स्कूल खोलो। 

कौन क्या बोले

  • 13 वर्ष तक प्रधानाचार्य रहे रघुवीर सिंह सयाल ने कहा कि सरकारी स्कूलों में स्टाफ की भारी कमी है। प्राइमरी स्कूल ऐसे हैं, जहां एक टीचर 5 क्लासों को पढ़ा रहा है। इसके साथ ही कुछ प्राइमरी स्कूल ऐसे हैं, जहां एक भी टीचर नहीं है। इसके साथ ही मिडल और हाई स्कूलों में सी एंड वी टीचर की पोस्ट ही खत्म हो गई है।
  • मंडी से जुड़े अभिषेक ने कहा कि जेबीटी की 3500 पोस्टें खाली हैं। 4 वर्षों से एक भी पोस्ट नहीं भरी गई। 153 स्कूल ऐसे है, जहां एक भी एडमिशन नहीं हुई है। 2100 स्कूल ऐसे हैं, जहां 1 से लेकर 10 संख्या बच्चों की है। सी.एम. के गृह क्षेत्र में 18 स्कूलों को चपड़ासी चला रहे हैं।
  • नगरोटा बगवां से संबंध रखने वाली राजिवनी ने कहा कि प्रदेश में स्कूलों में बच्चों को बैठने की व्यवस्था नहीं है। पेयजल और शौचालय की व्यवस्था नहीं है।
  • योगेश कुमार ने कहा कि प्रदेश में बेरोजगार युवाओं की संख्या बढ़ रही है। पढ़-लिखने के बाद भी नौकरी नहीं मिल रही है। आलम यह है कि पुलिस पेपर में ही धांधली हो गई। इससे युवाओं के मनोबल पर असर पड़ा है।

हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vijay

Related News

Recommended News