बैलेट पेपर पर वोटर का नाम लिखने वाले पोलिंग पार्टी के 3 कर्मचारी सस्पैंड

1/24/2021 11:41:24 PM

शिमला (देवेंद्र हेटा): निर्वाचन आयोग ने बैलेट पेपर पर वोटर का नाम लिखने वाले 3 कर्मचारियों को सस्पैंड कर दिया है। सैंज, बलग और जैस 3 पंचायतों के चुनाव में कोताही बरतने पर पीठासीन अधिकारी सहित 2 पोलिंग ऑफिसर्ज पर गाज गिरी है। इन्होंने बैलेट पेपर पर वोटरों के नाम लिख दिए थे। लिहाजा इन्हें मतदाताओं की गोपनीयता भंग करने का दोषी पाया गया। मतदान दल के एक पोलिंग अफसर को बख्श दिया गया है। इस पोलिंग टीम की लापरवाही के कारण सैंज, बलग और जैस तीनों पंचायतों के वार्ड नंबर-7 में जिला परिषद और पंचायत समिति के लिए दोबारा मतदान करवाना पड़ा है।

21 जनवरी को सामने आई लापरवाही

इनकी लापरवाही 21 जनवरी को तीसरे चरण के चुनाव के दौरान बझोआ पोलिंग स्टेशन पर सामने आई जब एक वोटर ने चुनाव कर्मियों को पूछा कि आप बैलेट पेपर पर मतदाता का नाम क्यों लिख रहे हैं। तब तक तकरीबन 100 वोटर वोट दे चुके थे। इसी दिन शाम को प्रधान, उपप्रधान और पंच के परिणाम आने के बाद स्थानीय लोगों ने इसकी सूची बीडीओ ठियोग को दी। उन्होंने स्थानीय उपमंडलाधिकारी के माध्यम से मामला राज्य निर्वाचन आयोग के ध्यान में लाया। आयोग ने जिला निर्वाचन अधिकारी को कार्रवाई के निर्देश दिए।

सैंज और बलग में भी यही गलती की

बता दें कि 21 जनवरी से पहले यह पोलिंग पार्टी 17 जनवरी को पहले चरण में सैंज व 19 जनवरी को दूसरे चरण में बलग में मतदान करवा चुकी थी। सैंज और बलग दोनों जगह भी इस पोलिंग पार्टी ने यही गलती की लेकिन तब यह मामला ध्यान में नहीं आया। बलग में एआरओ ने भी मतगणना के दौरान यह गलती नहीं पकड़ी। नतीजतन दूसरे व तीसरे चरण में भी यह गलती जारी रही। सूत्रों की मानें तो निर्वाचन आयोग एआरओ बलग के खिलाफ भी कार्रवाई की सिफारिश कर सकता है क्योंकि बलग में यह गलती पकड़ ली गई होती तो तीसरे चरण में इसकी पुनरावृत्ति नहीं होती। 

6-7 मतदान दलों ने की यह गलती

बैलेट पेपर पर मतदाता का नाम नहीं लिखा जा सकता है। इससे वोटर की गोपनीयता नहीं रह पाती। इस बार के चुनाव में 6-7 मतदान दलों द्वारा यह लापरवाही बरती गई है। आयोग ने सभी के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश सभी जिला निर्वाचन अधिकारी को दे रखे हैं। उधर जिलाधीश एवं जिला निर्वाचन अधिकारी शिमला आदित्य नेगी ने बताया कि सैंज, बलग और जैस पंचायत में बैलेट पेपर पर वोटर का नाम लिखने वाले 3 कर्मियों को सस्पैंड कर दिया गया है। इन्हें गोपनीयता भंग करने का दोषी पाया गया है।


Vijay

Recommended News