सुजानपुर में धूमल की हार पर मैराथन मंथन, बंद कमरों में हुईं बैठकें

सुजानपुर में धूमल की हार पर मैराथन मंथन, बंद कमरों में हुईं बैठकें

हमीरपुर: विधानसभा चुनावों के नतीजों के 22 दिन बाद सुजानपुर भाजपा ने धूमल की हार पर मैराथन मंथन किया और हार के कई कारणों को कार्यकर्ताओं ने गिनाया। भले ही हार के कई कारण रहे हों लेकिन भाजपा के सी.एम. कैंडीडेट की अप्रत्याशित हार से अभी भी भाजपा कार्यकर्ता सदमे में हैं और हार के कारणों का दोष एक-दूसरे पर फोड़ा जा रहा है। सुजानपुर में हुई मंगलवार को भाजपा मंडल की बैठक में 59 बूथों के अध्यक्षों, ग्राम केंद्र अध्यक्षों, शहरी इकाई और पंचायत प्रतिनिधियों को बुलाया गया था। इस बैठक में सुजानपुर से भाजपा प्रत्याशी एवं पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल विशेष रूप से मौजूद रहे।

हर बूथ के अध्यक्ष से बंद कमरे में की बैठकें
बैठक में उन्होंने हर बूथ के अध्यक्ष से अलग-अलग बंद कमरे में बैठकें कीं, जिसके चलते करीब 6 घंटे तक चली इन बैठकों के बाद पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने सभी कार्यकर्ताओं को भी संबोधित किया लेकिन बंद कमरे में हुई बैठकों के बाद धूमल से व्यक्तिगत तौर पर मिलने के उपरांत बूथ अध्यक्षों ने थोड़ी-सी राहत महसूस की। इस दौरान जिलाध्यक्ष अनिल ठाकुर महामंत्री राकेश ठाकुर, कमलेश परमार, वीरेंद्र ठाकुर, जिला परिषद अध्यक्ष राकेश ठाकुर, सुखदेव ठाकुर, मंडलाध्यक्ष कै. रणजीत सिंह, महामंत्री पवन शर्मा, अनिल चंदेल, नगर परिषद सुजानपुर के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष व शहरी इकाई सहित भाजपा नेता अरुण धूमल विशेष रूप से मौजूद रहे। 

ये गिनाए हार के कारण
बूथ अध्यक्षों से ली गई प्रतिक्रिया के बाद हार के कारणों के कई कारण सामने आए। कार्यकत्र्ताओं ने हार के कई कारण गिनाए जिनमें विपक्षी पार्टी द्वारा कथित धन-बल का खुलकर प्रयोग करना, वहीं अपने ही कुछ कार्यकत्र्ताओं द्वारा पार्टी में रहकर पार्टी विरोधी कार्य करना व चुनाव प्रचार की सही फीडबैक न देना और ग्रामीण क्षेत्रों में वोटर तक अपने नेता को न पहुंचाना इत्यादि कारण बताए गए। 



आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन