भीषण अग्निकांड में जला 15 कमरों का मकान, बेघर हुए 4 परिवार

भीषण अग्निकांड में जला 15 कमरों का मकान, बेघर हुए 4 परिवार

बालीचौकी: क्षेत्र की अति दुर्गम पंचायत थाना के गांव कांढी कलवाड़ा में 4 परिवारों का मकान आग लगने से राख हो गया। अभी तक आग लगने के कारणों का खुलासा नहीं हो पाया है। लकड़ी से बने इस मकान में 15 कमरे थे, जिसमें 4 परिवार रहते थे। आग लगने के समय परिवार के सदस्य घर में नहीं थे और स्थानीय लोगों ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया और दूसरे घरों को जलने से बचा लिया गया। पंचायत उपप्रधान डहल दास ने बताया कि आग इतनी भयंकर थी कि आग पर नियंत्रण पाना मुश्किल था लेकिन ग्रामीणों ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया। 

पेयजल की किल्लत न होती तो पा लेते आग पर काबू 
पंचायत के थाना गांव कांढी कलवाड़ा में पानी की समस्या चली रहती है। लोगों को पेयजल उपलब्ध न होने के कारण लोगों को पीने के पानी के लिए 2 किलोमीटर दूर बावड़ी से पानी लाना पड़ता है, ऐसे में आग बुझाने के लिए कहां से मिल सकता है। पानी न मिलने पर आग पर जल्द काबू नहीं पाया जा सका। गांव में पानी काफी मात्रा में उपलब्ध होता तो मकान बच सकता है।

सड़क न होने पर अग्रिशमन विभाग की नहीं मिली मदद  
पंचायत थाना शिवा के गांव कांढी कलवाड़ा में आजादी के 70 वर्ष बीत जाने के बाद भी सड़क सुविधा नहीं है। लोग अभी भी चैड़ा खड नामक सड़क से खानपान सहित सभी प्रकार की सामग्रियों को अपनी पीठ पर या फिर घोड़ों की सहायता से 3 किलोमीटर की चढ़ाई में ले जाते हैं, ऐसे में अग्रिशमन की गाडिय़ां गांव तक कैसे पहुंच सकती है। स्थानीय लोगों का कहना है अगर गांव तक सड़क की सुविधा होती तो शायद अग्रिशमन विभाग के कर्मचारी आग पर काबू पा लेते।

प्रभावितों को 10-10 हजार की फौरी राहत
इस मकान में वेद पुत्र कालु राम, जबना देवी पत्नी कांशी राम, देवी राम पुत्र कालु राम व हेत राम पुत्र संगत राम रहते थे। पंचायत उपप्रधान ने प्रशासन से प्रभावितों को उचित सहायता प्रदान करने की गुहार भी लगाई है, वहीं तहसीलदार थुनाग शमशेर सिंह ने कहा कि हलका पटवारी को मौके पर भेज दिया गया है और टीम नुक्सान का आकलन कर रहे हैं। प्रभावितों को 10-10 हजार रुपए की राहत राशि सहित कंबल व तिरपाल मुहैया करवा दिए हैं और प्रभावितों को हरसंभव सहायता दी जाएगी।



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन