मानवता की मिसाल, कोरोना से मृत 50 लोगों के अंतिम संस्कार में मददगार बने राम सिंह

5/8/2021 12:08:46 AM

नाहन (साथी): कोरोना काल में यहां मौत के बाद शव लेने से इंकार की बातें सामने आ रही हैं, वहीं एक शख्स ऐसे भी हैं जो मिसाल बनकर सामने आए हैं। संक्रमण के चलते मौत का शिकार हुए 55 लोगों के शवों के अंतिम संस्कार में रैडक्रॉस की एम्बुलैंस के चालक समाजसेवी राम सिंह को कोरोना संक्रमण हुआ है। इससे पहले 7 बार सैंपल नैगेटिव आए थे। मानवता की मिसाल बने राम सिंह के लिए हरेक की मदद करना उनका धर्म है लेकिन कोरोना काल के जिला प्रशासन व अस्पताल प्रबंधन की एक कॉल करने पर बिना समय गंवाए सेवा दे रहे हैं। कोरोना से दम तोड़ने वाले लोगों के शवों को ले जाने व संक्रमितों को उनके घरों में पहुंचने की सेवा कोरोना पॉजिटिव होने के बाद भी थमी नहीं है। राम सिंह आइसोलेशन में हैं। अब यह काम उनका भाई कर रहा है। पिछले 2 दिनों में राम सिंह के भाई ने भी 5 कोरोना शवों को छोड़ा है। राम सिंह ने बताया कि कोरोना काल मेें वह अब तक 50  शवों के अंतिम संस्कार में सहयोग कर चुके हैं। यहां से अन्य स्थानों पर भी शव ले जा रहा है।

शव छोड़ने की सूचना आते ही भाई की सगाई की रस्में भी छोड़ीं

राम सिंह ने बताया कि हाल ही में आमवाला गांव में एक कोरोना संक्रमित के अंतिम संस्कार में मदद करने बाद परिजन उसे 2 तोला सोना देने लगे लेकिन उन्होंने इसको स्वीकार नहीं किया। राम सिंह ने बताया कि अपने भाई की सगाई की रस्में इसलिए छोड़ दी थीं कि उन्हें एक कॉल आई कि एक व्यक्ति के शव को छोड़ने के लिए जाना है। इस व्यक्ति की मौत संक्रमण से हुई थी। इसके अलावा राम सिंह मरीजों को लगातार छोडऩे का काम कर रहा है। हर कोई राम सिंह के जज्बे को सैल्यूट कर रहा है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vijay

Recommended News

static