केंद्र से बजट न मिलने पर लटकी मनरेगा मजदूरों की दिहाड़ी

punjabkesari.in Wednesday, Dec 01, 2021 - 12:04 PM (IST)

धर्मशाला (ब्यूरो): गांवों में विभिन्न विकासात्मक कार्याे को करवाने और ग्रामीणों को रोजगार उपलब्ध करवाने वाली केंद्र की मनरेगा योजना के अंतर्गत कार्य करने वाले मजदूरों को दिहाड़ी का भुगतान नहीं हो रहा है। पिछले करीब 3 माह से मनरेगा के मजदूरों को दिहाड़ी की अदायगी न होने से आर्थिक रूप से परेशानी भी उठानी पड़ रही है। बताया जा रहा है कि केंद्र से मनरेगा के लिए बजट न देने के चलते इनकी दिहाड़ी की अदायगी में परेशानी आ रही है। जानकारी के अनुसार प्रदेश भर में मनरेगा मजदूरों को योजना के अंतर्गत लगाई गई दिहाड़ियों के पैसे की अदायगी रूकी हुई है। राज्य में मनरेगा के ऑडिट में आए कुछ इश्यू के चलते केंद्र ने यह राशि रोकी थी। अब ऑडिट रिपोर्ट को केंद्र को भेज दिया है। जिससे कि जल्द ही बजट की अदायगी होने पर मनरेगा मजदूरों के खातों में दिहाड़ी की राशि भेज दी जाएगी।
कांगड़ा में पंजीकृत हैं 5,63,767 मजदूर, केवल 2,16,140 ही हैं एक्टिव
जिला कांगड़ा में मनरेगा योजना के तहत 5,63,767 ग्रामीणों ने अपना पंजीकरण करवाया है। इसमें से केवल 2,16,140 मजदूर ही इस योजना के तहत एक्टिव हैं और कार्य करते हैं। एक्टिव वर्किंग मजदूरों की इस संख्या में 1,31,861 महिला मजदूर ही हैं।
क्या कहते हैं अधिकारी
डिप्टी डायरेक्टर डी.आर.डी.ए. धर्मशाला सोनू गोयल ने बताया कि भारत सरकार से पैसा न आने के कारण मनरेगा मजदूरों की दिहाड़ी की अदायगी रूकी है। ऑडिट में कुछ इश्यू आया था जिसे राज्य स्तर पर सही करवा रिपोर्ट केंद्र को भेज दी है। जल्द ही केंद्र से योजना के अंतर्गत पैसा आने पर मजदूरों की दिहाड़ियों की अदायगी कर दी जाएगी।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Rajneesh Himalian

Related News

Recommended News