Budget Session : जातीय भेदभाव पर विपक्ष का सदन से Walkout

2/28/2020 2:49:15 PM

 

शिमला(योगराज) : विधानसभा के बजट सत्र के चौथे दिन प्रश्नकाल से पहले किन्नौर के विधायक जगत नेगी ने शिवरात्रि मेले के समापन में सामूहिक धाम के दौरान हुए अनुसूचित जाति के लोगों से भेदभाव का मामला उठाया और सदन में मामले को लेकर स्थगन प्रस्ताव लाया।जिसे अध्यक्ष ने मानने से इंकार कर दिया जिस विपक्ष ने सदन में नारेबाजी की और सदन से वाकआउट कर दिया।सदन में जगत नेगी ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय मेले में सीएम व वरिष्ठ मंत्री के गृह क्षेत्र में ऐसी घटना दुखद है। सरकारी खर्च पर होने वाले कार्यक्रम में इस भेदभाव नहीं होना चाहिए। देवता के नाम पर इस तरह का भेदभाव नहीं होना चाहिए। नेगी ने सरकार पर आरोप लगाए कि सरकार की मानसिकता में जातिवाद छाया है। एक मंत्री व विधायक जब मन्दिर में नहीं जा सकता इससे सरकार की कार्यप्रणाली सवालों के घेरे में हैं। उन्होंने सरकार से सख्त कार्रवाई करने की मांग उठाई ताकि भविष्य में इस तरह की घटनाएं न हो।

इस पर मंत्री महेंद्र सिंह ने अपने वक्तव्य में कहा कि मेले आपसी मेल जोल को बढ़ावा देने के लिए आयोजित किये जाते है। हर साल की तरह शिवरात्रि मेले में भंडारे का आयोजन किया गया। प्रीतम सिंह ने पुलिस को शिकायत की कि सार्वजनिक धाम में उन्ही के गांव के व्यक्ति ने विरोध किया और कहा कि ये जगह आम जगह नहीं है और गाली गलोच की। मामला दर्ज कर दिया गया है। आरोपियों की गिरफ्तारी हो गई है। जातिवाद पर भेदभाव निंदनीय है। उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय शिवरात्रि मेले में घटित इस घटना की सरकार भर्त्सना करती है और दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। मंत्री के वक्तव्य पर विपक्ष ने शोर मचाना शुरू कर दिया। इस पर अध्यक्ष कहते रहे कि सरकार की तरफ से वक्तव्य आ गया है मगर विपक्ष ने एक नहीं सुनी और सत्ता पक्ष ने भी शोर मचाना शुरू कर दिया। इस पर विपक्ष ने सरकार के खिलाफ सदन में नारेबाजी शुरू कर दी और सरकार पर आरोप लगाया की प्रदेश में कानून व्यवस्था की हालत खराब है। साथ ही सदन से विपक्ष ने नारेबाजी करते हुए वाकआउट कर दिया और 2 मिनट बाद प्रश्नकाल के लिए सदन में वापिस आ गए।
 


kirti

Related News