बेवजह हीरो बनकर वीरभूमि की छवि धूमिल न करें अनुराग : अभिषेक राणा

9/20/2020 3:48:47 PM

हमीरपुर (ब्यूरो): प्रदेश कांग्रेस सोशल मीडिया के चेयरमैन अभिषेक राणा ने केंद्रीय राज्य वित्त मंत्री एवं हमीरपुर संसदीय क्षेत्र के सांसद अनुराग ठाकुर पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि अनुराग ठाकुर फिजूल की बातों को मुद्दा बनाकर जनता का ध्यान असली मुद्दों से भटकाने का असफल प्रयास न करें। उन्होंने कहा कि जो मरहूम हो चुके हैं और इस दुनिया में नहीं हैं उनके नाम पर फिजूल की बहसबाजी सांसद और उनकी सरकार की सत्ता को तो लाभ दे सकती है लेकिन इससे जनता को कोई लाभ नहीं होने वाला है।

उन्होंने कहा कि सांसद अनुराग ठाकुर को जवाब ही देना है तो इस बात का जवाब दें कि केंद्रीय वित्त मंत्रालय की चाबी का प्रदेश की जनता को क्या लाभ मिला है या कम से कम हमीरपुर संसदीय क्षेत्र में ही कोई लाभ गिना दें जो जनता को हुआ हो। उन्होंने कहा कि बेवजह वीरभूमि की आड़ में जिन फिजूल बातों को लेकर सांसद अनुराग ठाकुर प्रतिष्ठा का प्रश्न बनाकर हीरो बनने का प्रयास कर रहे हैं तो वह प्रदेश की जनता को जरा जवाब दें कि जब उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में झूठा एफिडेविट दिया था तब क्या वीरभूमि की प्रतिष्ठा धूमिल नहीं हुई थी? दिल्ली में दंगों को भड़काने का दंगाई बयान जब सांसद ने दिया था तो क्या तब उन्हें वीरभूमि की प्रतिष्ठा का ख्याल नहीं था।

उन्होंने कहा कि नेहरू गांधी परिवार के संघर्षों ने इस देश को आजादी दिलाई है। उसका सर्टिफिकेट देश की जनता को अनुराग ठाकुर से नहीं लेना है। देश की तमाम जनता ने देखा व समझा है कि जो मूलभूत ढांचा कांग्रेस ने 70 साल की सतत् मेहनत व संघर्ष से देश की जरूरतों को देखते हुए खड़ा किया था, उसे सांसद अनुराग की पार्टी ने सत्ता में आते ही 6 सालों में नष्ट-भ्रष्ट करके रख दिया है और जो बचा-खुचा है उसकी सेल का क्रम लगातार जारी है।

उन्होंने कहा कि अनुराग ठाकुर को अगर प्रतिष्ठा के सवाल पर जवाब ही देना है तो वह जवाब दें कि रसातल की ओर जा रही जीडीपी का स्तर किस कारण से इतना गिरा है? नोटबंदी के नुक्सान का जिम्मेदार कौन है? गलत जीएसटी के फैसले के नुक्सान की भरपाई की जिम्मेदारी किसकी है? सत्ता में आने से पहले जिन बेरोजगारों को सालाना 2 करोड़ रोजगार देने का वायदा किया था, उस झूठ की जवाबदेही किसकी है? देश में बर्बाद हो चुकी अर्थव्यवस्था का जवाब कौन देगा?

उन्होंने कहा कि अनुराग ठाकुर को जनता के इन असली मुद्दों को प्रतिष्ठा का प्रश्न बनाना चाहिए न कि बिना सिर-पैर की बातों को प्रतिष्ठा का प्रश्न बनाकर हंगामा खड़ा करना चाहिए। अगर अनुराग ठाकुर को बहस ही करनी है और हिमाचल की वीरभूमि की छवि को धूमिल होने से बचाना है तो संसद में वह इन मुद्दों पर बहस करें, जिसके लिए उन्हें जनता ने चुन कर संसद में भेजा है लेकिन वह तो बेवजह सियासी हीरो बनने का नाटक कर रहे हैं। उन्होंने पूछा है कि अगर प्रदेश के जांबाज सैनिकों ने परमवीर चक्र और वीर चक्र हासिल किए हैं तो अनुराग बताएं कि इसमें उनका क्या योगदान है?


Vijay

Related News