केंद्र से मिली 75 हजार पीपीई किट्स व 75 हजार एन 95 मास्क : जयराम

5/11/2021 8:19:19 PM

शिमला (कुलदीप): मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा है कि केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की तरफ से प्रदेश को 75 हजार पीपीई किट्स एवं 75 हजार एन.-95 मास्क प्रदान किए है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार अस्पतालों में कोविड के मरीजों की बढ़ती सं या के दृष्टिगत बिस्तर क्षमता बढ़ाने के भी हर संभव प्रयास कर रही है। मौजूदा समय में प्रदेश के विभिन्न स्वास्थ्य संस्थानों में करीब 3,700 बिस्तर क्षमता है, जिनमें से 50 प्रतिशत फीसदी अभी भी मरीजों के लिए उपलब्ध हैं। मुख्यमंत्री ने इस दौरान उच्च अधिकारियों के साथ कोरोना की स्थिति को लेकर समीक्षा भी की। उन्होंने कहा कि प्रदेश में प्रतिदिन 75.81 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उत्पादन किया जा रहा है, जबकि प्रतिदिन 27.83 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उपयोग हो रहा है। इस तरह प्रदेश में ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता है। प्रदेश में वर्तमान में 4,728 डी.-टाइप ऑक्सीजन सिलैंडर तथा 1,535 बी.-टाइप ऑक्सीजन सिलैंडर उपलब्ध है तथा केंद्र सरकार से 5 हजार डी.-टाइप तथा 3 हजार बी.-टाइप ऑक्सीजन सिलैंडर उपलब्ध करवाने की मांग की गई है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में निजी क्षेत्र में ऑक्सीजन के उत्पादन के लिए 8 औद्योगिक इकाइयां कार्य कर रही हैं तथा प्रतिदिन 57.03 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उत्पादन किया जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश में 244 आई.सी.यू. तथा 1,804 ऑक्सीजनयुक्त बैड भी उपलब्ध हंै तथा शीघ्र ही मेक शि ट अस्पतालों में 1,100 बैड की बढ़ौतरी की जाएगी। वर्तमान में क्षेत्रीय अस्पताल धर्मशाला, दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल शिमला, मैडीकल कॉलेज च बा, शिमला, टांडा, नेरचौक, हमीरपुर तथा एम.एम.यू. कुमारहट्टी में ऑक्सीजन संयंत्र क्रियाशील हैं। साथ ही केंद्र सरकार की तरफ से राज्य के लिए स्वीकृत ऑक्सीजन संयंत्रों को नागरिक अस्पताल पालमपुर, क्षेत्रीय अस्पताल मंडी, जिला शिमला के नागरिक अस्पताल खनेरी तथा रोहड़ू, क्षेत्रीय अस्पताल सोलन तथा मैडीकल कॉलेज नाहन में शीघ्र स्थापित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हाल ही में केंद्र सरकार ने प्रदेश के लिए 13 और पी.एस.ए. ऑक्सीजन संयंत्र स्वीकृत किए हैं, जो पालमपुर, मंडी, घुमारवीं, हमीरपुर, रिकांगपिओ, रत्ती, रामपुर, सराहन, कुल्लू, दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल शिमला, आई.जी.एम.सी. शिमला, धर्मशाला तथा नेरचौक में स्थापित किए जाएंगे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jinesh Kumar

Recommended News

static