130 नहीं 103 वर्ष निकली महिला की उम्र, जानिए कैसे हुए मामले का खुलासा

1/24/2021 9:46:35 PM

घुमारवीं (कुलवंत): घुमारवीं उपमंडल के पपलाह पंचायत में सबसे ज्यादा उम्र की महिला के मामले में खुलासा हुआ है। रविवार को प्रशासन ने महिला की जन्म से जुड़े दस्तावेजों की जांच की, जिसमें पाया गया कि महिला की आयु 103 वर्ष है। प्रशासन के मुताबिक क्लैरिकल मिस्टेक के चलते आधार कार्ड में जन्म आयु गलत दर्ज की गई थी। प्रशासन ने महिला के परिवार से जुड़े सदस्यों के दस्तावेजों की भी जांच की, जिसके अनुसार भी महिला की आयु 103 वर्ष तक बनती है।
एसडीएम घुमारवीं शशि पाल शर्मा ने मामले की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि जिलाधीश ने महिला के दस्तावेज जांच के आदेश दिए थे, जिस पर उन्होंने बुजुर्ग महिला के दस्तावेजों की जांच की।

जांच में पाया गया कि परिवार रजिस्टर में महिला का जन्म वर्ष 1917 है। इसके मुताबिक महिला की उम्र 103 वर्ष है। उन्होंने बताया कि मामले को दो पहलुओं से देखा गया। एक परिवार रजिस्टर और दूसरा बच्चों की आयु। उन्होंने कहा कि 1890 के हिसाब से देखा जाए तो महिला के छोटे बेटे का जन्म महिला की 60 वर्ष की उम्र में हुआ है। उन्होंने बताया कि महिला के परिजन भी उनकी आयु को लेकर कोई पुख्ता जानकारी नहीं दे सके।

बता दें कि इस महिला को दुनिया की सबसे उम्रदराज महिला का दावा किया गया था। आधार कार्ड में इस बुजुर्ग महिला की उम्र 130 वर्ष है और जन्म तिथि वर्ष 1890 है। इसका पता तब चला जब महिला पपलाह गांव में पंचायत चुनाव के दौरान वोट डालने पहुंची। महिला का नाम मंशा देवी है। प्रशासन तक यह मामला पहुंचा। जिलाधीश बिलासपुर ने मामले की छानबीन के लिए एसडीएम घुमारवीं को जिम्मा सौंपा। रविवार को एसडीएम घुमारवीं ने मामले की छानबीन की, जिसमें पाया गया कि परिवार रजिस्टर में महिला की जन्म तिथि वर्ष 1917 दर्ज है। इसके अनुसार महिला 103 वर्ष की है।

एसडीएम ने बताया कि क्लैरिकल मिस्टेक के कारण महिला के आधार कार्ड पर जन्म वर्ष गलत दर्ज हुआ है। पूरे तथ्यों को जोड़ कर और परिवार रजिस्टर के अनुसार महिला की जन्म तिथि 1917 दर्ज है। बुजुर्ग महिला के बच्चों के प्रमाण पत्रों की भी जांच की गई, जिसके मुताबिक भी महिला की आयु 103 वर्ष बनती है। जानकारी के अनुसार इस महिला के 9 बच्चे थे।


Vijay

Recommended News