यहां भाजपा की जीत का जश्न बना चर्चा का विषय

यहां भाजपा की जीत का जश्न बना चर्चा का विषय

सुजानपुर: सुजानपुर में भाजपा प्रत्याशी की जीत का जश्न जश्न चर्चा का विषय बन गया है। हालांकि इस जश्न में सिर्फ और सिर्फ  वही कार्यकर्ता शामिल हुए जिन्होंने सुजानपुर विधानसभा क्षेत्र में प्रचार की बागडोर अपने हाथों में ले रखी थी। जीत का जश्न सुजानपुर की श्रीकृष्ण धर्मशाला में आयोजित किया गया, जहां पर 200 से 250 कार्यकर्ता परिवार के साथ भोजन करने पहुंचे। जीत के जश्न में भाजपा प्रत्याशी प्रेम कुमार धूमल के छोटे बेटे अरुण धूमल ने भी शिरकत की और कार्यकर्ताओं के साथ भोजन किया। चुनाव संपन्न होने के ठीक 2 दिन बाद हुआ यह जश्न शहर में चर्चा का विषय बना हुआ है, साथ ही कांग्रेसी खेमे में हलचल पैदा कर गया है तथा कांग्रेसी खेमा इस डिनर से सकते में है। 

अपने प्रत्याशी की जीत सुनिश्चित कर बैठे हैं कांग्रेस-भाजपा
बताते चलें कि सुजानपुर विधानसभा क्षेत्र में 70 प्रतिशत के करीब मतदान हुआ है जबकि अकेले सुजानपुर के 6 बूथों में 79 प्रतिशत मतदान हुआ है। बंपर वोटिंग का असर किस पार्टी की ओर हुआ है यह तो मतगणना वाले दिन ही पता चलेगा लेकिन दोनों राजनीतिक दल भाजपा व कांग्रेस अपने-अपने आकलनों से अपनी-अपनी पार्टी और प्रत्याशी की जीत सुनिश्चित कर बैठे हैं। भाजपा खेमा इस बंपर वोटिंग का श्रेय मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित होने को दे रहा है जबकि कांग्रेस खेमा इसे मिशन रिपीट समझ रहा है। 

मुख्यमंत्री के लिए धूमल के नाम की घोषणा पर हुई थी आतिशबाजी 
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने जैसे ही मुख्यमंत्री के लिए प्रेम कुमार धूमल के नाम की घोषणा की थी तो कार्यकर्ताओं ने आतिशबाजी चलाकर जश्न मनाया था। बहरहाल जीत से पहले सुजानपुर का यह डिनर शहर में चर्चा का विषय बना हुआ है। 

18 दिसम्बर को असली पटाखे फोड़ेगी कांग्रेस : राजेंद्र राणा
उधर, इस संबंध में कांग्रेस उम्मीदवार राजेंद्र राणा से बात की तो उन्होंने बताया कि भाजपा पार्टी ने पटाखे भी पहले फोड़े हैं और जीत का डिनर भी पहले किया है लेकिन असली पटाखे 18 दिसम्बर को कांग्रेस पार्टी फोड़ेगी। सुजानपुर के साथ-साथ प्रदेश में कांग्रेस सरकार मिशन रिपीट करेगी। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!