फौजी को हिरासत में लेने पर ग्रामीणों ने दौलतपुर चौक बाजार में दिया धरना, पुलिस कर्मी सस्पैंड कर लाइन हाजिर किया

punjabkesari.in Tuesday, Mar 15, 2022 - 11:37 PM (IST)

दौलतपुर चौक (रोहित): गगरेट विधानसभा क्षेत्र के गांव अप्पर पिरथीपुर में सोमवार रात को छुट्टी पर आए फौजी के खिलाफ पुलिस द्वारा कार्रवाई करने का मामला अचानक तूल पकड़ गया। इस पर गांववासियों ने दौलतपुर चौक बाजार में रात को धरना देकर एक पुलिस कर्मी के खिलाफ कार्रवाई की मांग उठाई। इस मामले में पुलिस कर्मी को भी सस्पैंड कर लाइन हाजिर किया है। जानकारी के अनुसार अप्पर पिरथीपुर में एक अवैध खोखा खुला हुआ था जिसका मामला पहले से ही पंचायत के पास था और सोमवार शाम को उक्त खोखे के मालिक ने पुलिस को 112 के माध्यम से शिकायत दी कि फौजी शराब के नशे में उनके साथ गाली-गलौच कर रहा है। उक्त शिकायत के आधार पर जब पुलिस चौकी प्रभारी सुरजीत सिंह अपनी टीम सहित सैनिक के घर पहुंचे तो मामला हाथापाई में तबदील हो गया और पुलिस सैनिक को गिरफ्तार कर दौलतपुर अस्पताल ले गई जहां पर उसका मेडिकल करवाया। पुलिस चौकी प्रभारी सुरजीत सिंह ने थाना गगरेट में शिकायत दर्ज करवाई है कि सोमवार देर शाम को जब उक्त फौजी को उन्होंने समझाने की कोशिश की तो शराब के नशे में फौजी ने पुलिस के साथ दुर्व्यवहार और मारपीट की। यहां तक कि मेरी वर्दी तक फाड़ दी। इस पर पुलिस ने फौजी को हिरासत में लेकर उसका मेडिकल करवाया। 

पुलिस कर्मी का मेडिकल करवाने पर अड़े ग्रामीण

उधर, जैसे ही गांववासियों को फौजी को हिरासत में लेने की भनक लगी तो पंचायत पदाधिकारियों सहित काफी संख्या में गांववासी मौके पर पहुंच गए। जैसे ही पुलिस फौजी को लेकर अस्पताल पहुंची तो गांव की पंचायत प्रधान, उपप्रधान व वार्ड पंच सहित ग्रामीण पुलिस की कार्रवाई पर सवाल खड़े करने लगे। पंचायत सदस्य मांग कर रहे थे कि यदि फौजी का मैडीकल करवाया जा रहा है तो पुलिस कर्मी को भी मौके पर बुलाया जाए व उसका भी मैडीकल करवाया जाए। जब पुलिस विभाग ने कोई कार्रवाई नहीं की तो पंचायत के लोगों ने रास्ता रोक दिया और दोनों तरफ गाड़ियों की लाइन लग गई लेकिन कुछ देर समझाने के बाद रास्ता तो खोल दिया गया परन्तु उक्त लोग पुलिस कर्मी को वहां बुलाने और मैडीकल करवाने की मांग पर अड़े रहे।

सुबह 3 बजे तक डटे रहे लोग

क्षेत्र की ग्राम पंचायत के मामले में फौजी के समर्थन में गांववासी धीरे-धीरे एकत्रित होने शुरू हुए और सुबह करीब 3 बजे तक पंचायत प्रधान, उपप्रधान व वार्ड पंच डटे रहे और उक्त कर्मी के सस्पैंशन के आश्वासन के बाद वहां से गए। दौलतपुर अस्पताल में लगे जमावड़े के चलते स्थानीय लोग भी घरों की छतों से देखते रहे, वहीं सड़क जाम हुई तो श्रद्धालु भी गांववासियों के पक्ष में दिखाई दिए। पंचायत प्रधान ने बताया कि फौजी की लगभग एक माह की बेटी है और वह उसके लिए ही छुट्टी आया था।

बिना पंचायत को सूचना दिए फौजी के घर पहुंचा पुलिस कर्मी

हिरासत में लिए गए फौजी एवं गांववासियों ने आरोप लगाया कि एक पुलिस कर्मी बिना किसी पंचायत सदस्य एवं बिना पूर्व सूचना के फौजी के घर में पहुंचा और उसे जबरदस्ती हिरासत में लेने लगा। इससे उसके परिवार के सदस्यों को भी धक्का-मुक्की सहन करनी पड़ी। 

आलाधिकारियों ने शांत करवाया मामला

उधर, स्थिति बेकाबू होते देख मध्य रात्रि मौके पर पुलिस के आला अधिकारी पहुंचे और मामले की जांच एसएचओ अम्ब के सुपुर्द करने पर रात्रि को उक्त मामला शांत हो पाया लेकिन मंगलवार सुबह पिरथीपुर में गांववासी एक बार एकत्रित हो गए और फौजी के खिलाफ मामला दर्ज करने एवं उक्त पुलिस कर्मी के खिलाफ कार्रवाई न करने पर रोष व्यक्त करने लगे। इस पर एएसपी ऊना प्रवीण धीमान पुलिस दल-बल सहित मौके पर पहुंचे और उन्हें बताया कि उक्त पुलिस कर्मी को सस्पैंड करके लाइन हाजिर कर दिया है तब जाकर लोग शांत हुए।

क्या बोले एएसपी ऊना

एएसपी ऊना प्रवीण धीमान ने बताया कि पुलिस ने अप्पर पिरथीपुर में शिकायत के आधार पर पुलिस से दुव्र्यवहार करने के मामले में उक्त फौजी के खिलाफ आईपीसी की धारा 353 व 332 के तहत मामला दर्ज किया एवं आगामी कार्रवाई जारी है। गांववासियों की शिकायत पर पुलिस चौकी दौलतपुर चौक के एक कर्मी को आगामी आदेशों तक सस्पैंड करके लाइन हाजिर किया है। पुलिस हर पहलू की गहनता से जांच करेगी और यदि चौकी प्रभारी ने लापरवाही बरती है तो इस पर भी जांच की जाएगी।

हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vijay

Related News

Recommended News