इस हफ्ते ने होटलियर को किया निराश, अब निगाहें अगले वीकैंड पर

2021-06-15T11:50:56.59

धर्मशाला (जिनेश) : कोरोना के मामलों में प्रदेश भर में आई कमी के बाद जहां प्रदेश सरकार द्वारा पर्यटकों के आने के द्वार खोल दिए है वहीं पर्यटकों को मिली छूट का पहला हफ्ता होटलियर के लिए मायूस करने वाला ही रहा। धर्मशाला-मैक्लोडगंज होटल एसोशिएशन के पदाधिकारियों की मानें तो प्रदेश सरकार द्वारा पर्यटकों के लिए दी गई छूट के चलते अभी तक पर्यटक जिला के पर्यटन क्षेत्रों का रूख करने में रूचि नहीं दिखा रहे है, इसी के चलते पर्यटन नगरी धर्मशाला-मैक्लोडगंज में इस सप्ताह मात्र 5 से 7 प्रतिशत होटल के कमरे पर्यटकों द्वारा ही बुक करवाए गए। पर्यटन नगरी धर्मशाला व मैक्लोडगंज के होटलियर की अब निगाहें आने वाले वीकैंड पर टिकी हुई है। होटलियरस की मानें तो चंडीगढ़, हरियाणा व दिल्ली का पर्यटक फिलहाल कसोल, कुल्लू और मनाली की ओर अपना रूख कर रहे है। होटलियरस की मानें तो जिला में आने वाला पर्यटक केवल पंजाब का ही आ रहा है।

पर्यटकों को मिली छूट के बाद रेस्टोरेंट मालिक असमंजस में 

प्रदेश सरकार द्वारा कोरोना कफ्र्यू में दी गई ढील के चलते जहां सरकार द्वारा कारोबार को बुस्ट किया जा रहा है वहीं कुछ रेस्टोरेंट मालिक प्रदेश सरकार द्वारा दी गई ढील के चलते असमंजस की स्थिति में है। रेस्टोरेंट मालिकों का कहना है कि पिछले निर्देशों के अनुसार एस.ओ.पी. के तहत रेस्टोरेंट में पर्यटकों को खाना खाने की अनुमति थी लेकिन दुबारा लगाए गए कोरोना कफ्र्यू के बाद दी गई छूट में सुबह 9 से 5 बजे तक पर्यटकों को रेस्टोरेंट में बैठाया जाए या नहीं इस पर रेस्टोरेंट मालिक असमंजस में है। इसके लिए एसोशिएशन ने डी.सी. कांगड़ा से इस समस्या का समाधान करने की मांग की है। एसोशिएशन का कहना है कि 5 बजे तक तो पर्यटकों को रेस्टोरेंट में एस.ओ.पी. के तहत बैठने की अनुमति दी जाए। धर्मशाला-मैक्लोडगंज होटल-रेस्टोरेंट एसोशिएशन के अध्यक्ष अश्वनी बांबा ने कहा कि इस सप्ताह धर्मशाला-मैक्लोडगंज के होटलों में मात्र 5 से 7 प्रतिशत तक रूम बुक हुए है। आने वाले वीकैंड पर अब निगाहें है। 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

prashant sharma

Recommended News

static