महंगाई ही गृहिणी के लिए है सबसे बड़ा मुद्दा : राणा

punjabkesari.in Monday, Apr 11, 2022 - 06:34 PM (IST)

सुजानपुर: सुजानपुर में महिला आक्रोश सम्मेलन में बतौर मुख्यातिथि बोलते हुए विधायक राजेंद्र राणा ने कहा कि प्रदेश के चार उपचुनावों में मिली करारी हार के बाद कुछ दिनों के लिए बीजेपी को होश आया था। हार के खौफ में डीजल-पैट्रोल के दाम कुछ कम किए गए थे लेकिन देश के चार राज्यों में जनादेश मिलते ही फिर जनता की लूट का सिलसिला जारी कर दिया गया। राणा ने कहा कि मौजूदा दौर में महंगाई व बेरोजगारी ही सबसे बड़ा मुद्दा है। बीजेपी के राज में जनता की आमदन लगातार कम हुई है जबकि महंगाई के कारण खर्चे लगातार बढ़े हैं, ऐसे में आम नागरिक को परिवार चलाना अब मुश्किल ही नहीं असंभव होता जा रहा है। तानाशाह निक्कमी सरकार ने हर मोर्चे पर जनता को लूटने का क्रम जारी रखा है।

जिसको लेकर सोमवार 11 अप्रैल को सुजानपुर में मातृ शक्ति ने आवाज उठाई है जिसका संदेश साफ है कि अब महंगाई को बढ़ाने व आम आदमी की जेब पर डाका डालने वाली सरकार नहीं चलेगी। क्योंकि महिलाएं जानती हैं कि परिवार और पार्टियां कैसे चलती हैं। इस अवसर पर राणा ने सुजानपुर के चिल्ड्रन पार्क में उमड़ी महिलाओं की अप्रत्याशित भीड़ से पूछा कि क्या उन्हें चुनाव लडऩा चाहिए तो तमाम महिलाओं ने एक मत से आवाज बुलंद की कि हर सूरत में लडऩा चाहिए। राणा ने कहा कि दुनिया भर में भारत ही एक ऐसा देश है जहां पैट्रोल-डीजल को लेकर सबसे ज्यादा महंगाई की गई है। महिला शक्ति का संदेश व आक्रोश साफ है कि अब कांग्रेस सरकार आने वाली व बीजेपी सरकार जाने वाली है। राणा ने कहा कि कांग्रेस के आते ही सुजानपुर के तमाम रुके हुए काम फिर से शुरू होंगे।

राणा ने कहा कि व्यक्तिगत बैर-विरोध की सियासत की इंतहा यह है कि सुजानपुर में 75 लाख के बजट के बावजूद टाऊन हॉल का काम बीजेपी की निक्कमी सरकार ने रोक कर रखा है। मिनी सचिवालय का काम जो 4 वर्ष पहले पूरा हो चुका है उसका लोकार्पण लटका कर रखा है। सुजानपुर की सड़कें ठीक करने के नाम पर वर्षों पहले उखाड़ दी हैं और उन्हें ठीक करने का अभी तक कोई नाम नहीं ले रहा है। राणा ने महिला शक्ति से आह्वान किया कि जैसे सुजानपुर की सड़़कों को उखाड़कर सरकार ने जनता की नाक में दम किया है वैसे ही अब इस सरकार को उखाड़ फैंकना है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Kuldeep

Related News

Recommended News