‘रेमडेसिविर’ के बाद अब बिना अनुमति आईबूप्रोफोन पैरासिटामोल का प्रोडक्शन, 1.75 लाख टैबलेट्स जब्त

2021-06-17T22:30:48.603

नूरपुर (राकेश): स्वास्थ्य विभाग ने बिना अनुमति के बनाई गई दवाएं जब्त कर सूरजपुर की एक दवाई निर्माता कंपनी की इन कथित दवाइयों के सैंपल जांच के लिए लैब में भेज दिए हैं। पकड़ी गई दवा का नाम आईबूप्रोफोन पैरासिटामोल बताया गया है, जिसके निर्माण के लिए जरूरी अनुमति ड्रग कंट्रोल से लेना जरूरी होता है। विभागीय सूत्रों के अनुसार उक्त दवा कंपनी ने इस प्रकार की कोई भी विधिवत इजाजत नहीं ली थी। पकड़ी गई दवा की मात्रा 1 लाख 75 हजार टैबलेट्स बताई जा रही है जोकि पाऊचों में भरी हुई थी।

उल्लेखनीय है कि यह दवा कंपनी हाल ही में कोरोना महामारी में देश-विदेश में चर्चित दवा रेमडेसिविर के टीके भी कथित रूप से बिना इजाजत लिए बनाने के आरोपों में घिर चुकी है। तब भी विभाग ने इस दवा उद्योग के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 16 कार्टन में उक्त टीके की 400 वायल बरामद की थीं। यद्यपि इस दवा निर्माता इकाई ने विभाग को इस टीके को बनाने के लिए अनुमति पत्र लिख रखा था तथापि उसे विभाग द्वारा किसी प्रकार की अनुमति प्रदान नहीं की गई थी। विभाग की त्वरित कार्रवाई के कारण यह दवा बाजार में खप जाने से पहले ही कब्जे में ले ली गई।

ड्रग निरीक्षक नूरपुर प्यार सिंह ठाकुर ने कहा कि सूरजपुर स्थित एक दवा निर्माता इकाई, जिस पर पहले रेमडेसिविर का कथित टीका बनाए जाने का मामला भी दर्ज हुआ था, उस पर अब बिना अनुमति एक और दवा बनाने का मामला सामने आने पर कार्रवाई की गई है तथा 1 लाख 75 हजार टैबलेट्स कब्जे में लेते हुए इनके सैंपल जांच हेतु लैब में भेज दिए गए हैं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vijay

Recommended News

static