रोहतांग दर्रा बहाल होने के बाद फिर बंद, BRO के सामने आई ये बड़ी मुसीबत

11/19/2019 10:55:08 PM

मनाली (सोनू): रोहतांग दर्रे को बहाल करने के लिए बीआरओ के जवान देर रात तक डटे रहे। बीआरओ के जवानों ने माइनस डिग्री तापमान के बीच रोहतांग दर्रे पर फंसे 6 ट्रकों को निकाल लिया। दोपहर के वक्त बीआरओ ने रोहतांग दर्रे के दोनों छोर जोड़कर दर्रे को बहाल कर लिया लेकिन राहनीनाला में हिमखंड गिरने से एक बार फिर दर्रा बाधित हो गया है। सुबह भी यहां हिमखंड गिरा था लेकिन बीआरओ ने दर्रा बहाल कर दिया था। गनीमत रही कि कोई इसकी चपेट में नहीं आया।
PunjabKesari, Rohtang Pass Image

3 दिन से बर्फ हटाने में जुटा बीआरओ रोहतांग बहाली के बाद दोबारा हिमखंड को हटाने में जुट गया है। रोहतांग दर्रे पर 3 फुट तक बर्फ की मोटी परत जमी थी। राहनीनाला से रोहतांग तक बर्फीली हवाओं ने डेरा डाला हुआ है। बीआरओ यहां आगे-आगे सड़क बहाल करता है ओर ये बर्फीली हवाएं इधर-उधर से बर्फ  को उड़ाकर पीछे से सड़क को बर्फ  से ढक देती हैं। बीआरओ इस समस्या का कल से सामना कर रहा है।

बर्फबारी के बाद रोहतांग दर्रा बंद होने से पुलिस जवानों की बस समेत कई वाहन फंसे हैं, जिन्हें निकालने के लिए बीआरओ के जवान दिन-रात एक कर दर्रे से बर्फ  हटाने में जुटे रहे। लाहौल की ओर बीआरओ को अधिक दिक्कत नहीं हुई लेकिन मनाली की ओर राहनीनाला से रोहतांग तक बर्फीली हवाओं ने बीआरओ की परेशानी को बढ़ाया है। बर्फीली हवाओं के कारण बीआरओ इस स्थान पर प्रोग्रैस भी नहीं दे पाया है। लाहौल के फंसे वाहनों को अभी नहीं निकाला जा सका है। लाहौल निवासी निखिल, आर्यन, रिगजिन व सत्यम ने बताया कि बीआरओ के प्रयास से उन्हें राहत मिलने जा रही है।

बीआरओ कमांडर कर्नल उमा शंकर ने बताया कि बीआरओ के जवान 3 दिनों से रोहतांग बहाली में जुटे हुए थे व दोपहर के वक्त दर्रा बहाल कर लिया गया लेकिन हिमखंड गिरने से आवाजाही फिर बाधित हो गई है। उन्होंने उम्मीद जताई कि बुधवार को रोहतांग दर्रे में वाहनों की आवाजाही सुचारू हो जाएगी। एसडीएम मनाली ने लोगों से आग्रह किया है कि बीआरओ से हरी झंडी मिलने के बाद रैस्क्यू चौकियों में संपर्क कर ही दर्रे की ओर रुख करें।


Vijay

Related News