पशुपालन मंत्री बोले - मार्च 2022 के बाद सड़कों पर नहीं दिखेगा बेसहारा गौवंश

7/25/2021 3:35:54 PM

ऊना (अमित शर्मा) : कृषि एवं पशुपालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने आज ऊना जिला के प्रवास के दौरान ग्राम पंचायत डठवाड़ा में गौशाला का निरीक्षण किया। इस दौरान कंवर ने क्षेत्र के लोगों की समस्यायों को भी सुना और समस्याओं के शीघ्र निराकरण का आश्वासन भी दिया। कंवर ने गौशाला में पौधरोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संदेश भी दिया। इस दौरान कृषि एवं पशुपालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि मार्च 2022 के बाद एक भी बेसहारा गौवंश सड़क पर नहीं दिखेगा। वहीं उन्होंने कहा कि विधानसभा सत्र के दौरान सरकार गौवंशो को सड़कों में छोड़ने वालों के खिलाफ कानून लेकर आएगी। उन्होंने कहा कि अब गाय के जन्म और मृत्यु के पंजीकरण के साथ साथ खरीदने और बेचने का भी रिकॉर्ड रखा जाएगा। 

कृषि एवं पशुपालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने आज कुटलैहड़ विधानसभा क्षेत्र के दौरे के दौरान डठवाड़ा स्थित गौशाला का निरीक्षण किया। इस दौरान कंवर ने डठवाड़ा में ही खुला दरबार लगाकर लोगों की समस्याएं भी सुनी और उन समस्यायों के शीघ्र समाधान का आश्वासन भी दिया। गौशाला में पहुंचने पर स्थानीय लोगों द्वारा कृषि मंत्री वीरेंद्र कंवर का जोरदार स्वागत किया गया। वहीं गौशाला में पहुंचते ही कंवर ने सबसे पहले पौधरोपण किया और लोगों से पर्यावरण के संरक्षण हेतु बरसाती सीजन में ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने का आहवान भी किया। इस दौरान वीरेंद्र कंवर ने गऊ पूजा कर हवन यज्ञ में भी शिरकत की। वीरेंद्र कंवर ने कहा कि जहाँ पहले मात्र 7 हजार गौवंश ही गौशालाओं में थे वहीं अब 18 हजार से ज्यादा गौवंशों को गौशालाओं में रखा गया है।

उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा गौशालाओं में गायों की देखरेख के लिए 500 रूपये प्रति गाय हर माह दिए जा रहे है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार का लक्ष्य है कि 31 मार्च 2022 तक सड़कों में घूमने वाली सभी बेसहारा गायों को गौशालाओं और काऊ सैन्कचरी में पहुंचाया जाए। उन्होंने कहा कि गाय की नस्ल को सुधारने के भी प्रयास किये जा रहे है ताकि किसान गाय को बेसहारा न छोड़े। उन्होंने कहा कि आगामी विधानसभा सत्र में सरकार गौवंश को बेसहारा छोड़ने वालों के खिलाफ सख्त कानून लेकर आ रही है। उन्होंने कहा कि अब गाय के जन्म मृत्य के पंजीकरण के साथ साथ गाय के खरीदने और बेचने का रिकॉर्ड भी विभाग द्वारा रखा जायेगा। उन्होंने कहा कि अगर बाबजूद इसके भी कोई गाय को छोड़ता है तो पशुपालन विभाग को अतिरिक्त शक्तियां देकर सजा का प्रावधान किया जायेगा।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

prashant sharma

Recommended News

static