भीतरघात करने वाले नेताओं पर हाईकमान ने लिया कड़ा संज्ञान, राहुल को सौंपी जाएगी यह रिपोर्ट

भीतरघात करने वाले नेताओं पर हाईकमान ने लिया कड़ा संज्ञान, राहुल को सौंपी जाएगी यह रिपोर्ट

शिमला: विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के अधिकृत प्रत्याशियों के खिलाफ चुनाव लड़ने और बगावत करने वाले नेताओं के खिलाफ हाईकमान ने कड़ा संज्ञान लिया है। इस कड़ी के तहत कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष को रिपोर्ट सौंपी जाएगी। पार्टी पर्यवेक्षकों की तरफ से इस रिपोर्ट को तैयार करके अंतिम रूप दे दिया गया है। सूत्रों के अनुसार इस रिपोर्ट की भनक मिलने के बाद पार्टी विरोधी कार्य करने वाले नेताओं और कार्यकर्ताओं में हड़कंप मच गया है। कांग्रेस की तरफ से अब तक ऐसे कई नेताओं को निष्कासित कर दिया गया है तथा आगामी दिनों में कई अन्य पर भी गाज गिरना लगभग तय माना जा रहा है। 


शिमला शहरी विधानसभा क्षेत्र में पार्टी में बड़े स्तर पर बगावत देखने को मिली
शिमला शहरी विधानसभा क्षेत्र में पार्टी में बड़े स्तर पर बगावत देखने को मिली है। इसमें हरीश जनार्था ने पार्टी प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव लड़ा और उनका नगर निगम शिमला में कांग्रेस के कई पार्षदों, पूर्व पार्षदों एवं पदाधिकारियों ने समर्थन भी किया। इसी तरह ठियोग से कांग्रेस प्रत्याशी दीपक राठौर के खिलाफ भी पार्टी विरोधी सक्रिय रहने का दावा किया गया है। जानकारी के अनुसार ठियोग से राहुल गांधी ने खुद अपनी पसंद के उम्मीदवार को टिकट दिया था। यहां से सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मंत्री विद्या स्टोक्स के पहले चुनाव न लडऩे के ऐलान के चलते टिकट दिया गया था। 


यहां से कांग्रेस की तरफ से वीरभद्र को बनाया जा रहा था प्रत्याशी
दीपक राठौर से पहले यहां से कांग्रेस की तरफ से मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को प्रत्याशी बनाया जा रहा था, जिनको बाद में अर्की से प्रत्याशी बनाया गया। ठियोग में कई कांग्रेस कार्यकत्र्ताओं पर खुलेआम माकपा प्रत्याशी राकेश सिंघा के पक्ष में काम करने का आरोप है। ठियोग से पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप के चलते युवा नेता अतुल का निष्कासन किया गया है। इसी तरह अन्य विधानसभा क्षेत्रों से भी पार्टी ने 15 अन्य नेताओं का शनिवार को निष्कासन किया है।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!