हिमाचल में डेंगू ने पसारे पांव, बीबीएन में बरसाया सबसे ज्यादा कहर

हिमाचल में डेंगू ने पसारे पांव, बीबीएन में बरसाया सबसे ज्यादा कहर

शिमला : हिमाचल प्रदेश में डेंगू के चार सौ से अधिक मामले सामने आने के बाद सेहत विभाग लोगों की सेहत को लेकर सचेत हो गया है। प्रदेश में डेंगू के 2,621 संदिग्ध मामलों में से 401 पॉजिटिव पाए गए हैं। हैरानी की बात तो यह है कि इनमें से सोलन जिला में ही 265 मामले पॉजिटिव पाए गए हैं। इस बात को स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर ने स्वीकार किया है। सोलन के औद्योगिक क्षेत्र में डेंगू के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। इससे बीबीएन की कंपनियों की कार्यप्रणाली संदेह के घेरे में आ गई है।

विभागों को हिदायत
कौल सिंह ने बताया कि प्रदेश में डेंगू से किसी की मृत्यु होने की कोई सूचना नहीं है। इतने ज्यादा मामले पॉजिटिव पाए जाने के बाद स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री कौल सिंह ठाकुर ने आज ही शिमला में स्वास्थ्य विभाग, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और संबद्ध विभागों के अधिकारियों की आपात बैठक बुलाकर स्थिति को जांचा और कारगर कदम उठाने की हिदायत दी है। 

की जा रही मुफ्त जांच
इसके बाद कौल सिंह ठाकुर ने कहा कि डेंगू भयानक महामारी है। कौल सिंह ने कहा कि अकेले सोलन जिले में ही डेंगू के 265 मामले पाजिटिव पाए गए हैं। इनमें से अधिकांश मामले परवाणू, बद्दी, बरोटीवाला और नालागढ़ (बीबीएनडीए) में कार्यरत प्रवासी मजदूरों के पाए गए हैं। कौल सिंह ने बताया कि राज्य भर में डेंगू की मुफ्त जांच की जा रही है और रोगियों को दवाइयां भी फ्री ही दी जा रही हैं। औद्योगिक क्षेत्र में डेंगू से निपटने के लिए फॉगिंग मशीनें उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए हैं। 

पानी इकटठा नहीं होने दें
मंत्री ने कहा, एसडीएम, तहसीलदार को स्पॉट पर जाने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही किसी भी स्थान पर पानी एकत्र न होने दें, क्योंकि चार-पांच दिनों तक पानी ठहरने के बाद वहां डेंगू के मच्छर पनप सकता है। स्वास्थ्य मंत्री ने इस संबंध में जिला प्रशासन सोलन को एसडीएम, तहसीलदार और नायब तहसीलदारों के विभिन्न दल गठित कर प्रभावित क्षेत्रों का व्यापक निरीक्षण करने के निर्देश दिए हैं। 

ऐसे करें बचाव 
खिड़कियों में शीशे बंद रखें, मच्छरों से बचने के लिए क्रीम का प्रयोग करें, पूरी बाजू के कपड़े पहनेें, घर के आसपास पानी एकत्र न होने दें, मच्छरदानी का प्रयोग करें, कूलरों का पानी बदलते रहें, जल भंडारणों की नियमित सफाई करें। बुखार में हल्का भोजन करें, पानी का ज्यादा उपयोग करें, पूरी तरह से आराम करें, बुखार के लिए एसप्रिन का प्रयोग न करें।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!