लॉकअप हत्याकांड में विवादित मुलाकात का मामला, जेल विभाग ने सरकार को भेजी रिपोर्ट (Video)

शिमला (राक्टा): न्यायिक हिरासत में चल रहे जिला शिमला के पूर्व एस.पी. डी.डब्ल्यू. नेगी से प्रदेश पुलिस महानिदेशक एस.आर. मरड़ी द्वारा की गई मुलाकात से जुड़ी रिपोर्ट जेल विभाग ने सरकार को भेज दी है। बीते दिनों ही यह रिपोर्ट सरकार को भेजी गई है। रिपोर्ट के साथ सी.सी.टी.वी. कैमरे की वीडियो क्लिप भी सरकार को भेजी गई है। सूत्रों के अनुसार रिपोर्ट में कई तथ्यों का हवाला दिया गया है, ऐसे में अब यह सरकार पर निर्भर करता है कि वह इस मामले में किस तरह की आगामी कार्रवाई अमल में लाती है। सरकार को रिपोर्ट भेजने से पहले जेल विभाग ने इस मामले में अपने स्तर पर जांच की। डी.जी. जेल सोमेश गोयल की तरफ से इस मामले में रिपोर्ट तलब की गई थी। इसी कड़ी में जेल अधीक्षक ने डी.जी. जेल को रिपोर्ट भेजी कि डी.जी.पी. व जेल में बंद डी.डब्ल्यू. नेगी की मुलाकात बंद कमरे में नहीं बल्कि उनके दफ्तर में हुई थी। 

2 अन्य पुलिस अधिकारी भी थे साथ
सूत्रों के अनुसार रिपोर्ट में यह भी उल्लेख किया गया है कि डी.जी.पी. व डी.डब्ल्यू. नेगी की मुलाकात के दौरान 2 अन्य पुलिस अधिकारी भी साथ थे। सूत्रों के अनुसार इस मुलाकात के लिए जेल प्रशासन से कोई अनुमति नहीं ली गई थी। कायदे से किसी भी कैदी से मुलाकात के लिए बाकायदा अनुमति लेनी पड़ती है। बता दें कि नियमों के अनुसार जेल में बंद कैदी को सिर्फ कोर्ट या अस्पताल ले जाने के लिए ही जेल से बाहर लाया जा सकता है। इसके साथ ही किसी अफसर के जेल में निरीक्षण या किसी केस के सिलसिले में जाने के लिए कोर्ट से अनुमति लेना जरूरी होता है। 

नेगी के खिलाफ दायर की जा चुकी है चार्जशीट
बहुचर्चित गुडिय़ा प्रकरण से जुड़े पुलिस लॉकअप हत्याकांड मामले में सी.बी.आई. ने जिला शिमला के पूर्व एस.पी. डी.डब्लयू. नेगी के रूप में 9वीं गिरफ्तारी की थी। वर्तमान में नेगी कैथू जेल के तहत न्यायिक हिरासत में हैं। सी.बी.आई. नेगी के खिलाफ अदालत में चार्जशीट भी दायर कर चुकी है। 

क्या है मामला
बीते 10 फरवरी को डी.जी.पी. मरड़ी पुलिस लाइन कैथू का निरीक्षण करने पहुंचे थे। इसके बाद वह कैथू जेल पहुंचे और उन्होंने जेल अधीक्षक के कमरे में शिमला के पूर्व एस.पी. डी.डब्ल्यू. नेगी से भी मुलाकात की। इस मुलाकात को पूरी तरह से गोपनीय रखा गया था लेकिन इस बीच कैथू जेल के ही एक अधिकारी ने इस बारे डी.जी. जेल को सूचना दे दी। इसके बाद डी.जी. जेल सोमेश गोयल ने कैथू जेल के अधीक्षक को ई-मेल भेजकर जवाबतलब किया था। इसी कड़ी में अब सरकार को पूरे मामले की विस्तृत रिपोर्ट भेज दी गई है।



आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन