IAS अधिकारी ने कायम की मिसाल, जनसहयोग से बना डाला गुरुकुलम

IAS अधिकारी ने कायम की मिसाल, जनसहयोग से बना डाला गुरुकुलम

बी.बी.एन.: नालागढ़ क्षेत्र से मैडीकल व इंजीनियरिंग कोर्सों में बहुत कम बच्चे चयनित हो रहे हैं। यह बात आई.ए.एस. अधिकारी आशुतोष गर्ग को अच्छी नहीं लगी और उन्होंने उसी समय यह प्रण लिया कि यहां पर एक कोचिंग सैंटर खोला जाएगा ताकि इस क्षेत्र के बच्चे भी मैडीकल व इंजीनियरिंग कोर्सों में चयनित हों। चंद महीनों में ही उक्त अधिकारी की यह सोच सिरे चढ़ गई और उन्होंने जनसहयोग से नालागढ़ में ओल्ड ब्वायज स्कूल के ऐतिहासिक भवन का जीर्णोद्धार करवाकर वहां पर करीब 30 लाख रुपए की लागत से गुरुकुलम स्थापित कर दिया, जिसमें कोचिंग सैंटर, लाइब्रेरी व कम्प्यूटर सैंटर खोला गया। कोचिंग सैंटर में सरकारी स्कूलों के 62 विद्यार्थी मैडीकल व इंजीनियरिंग कोर्सों की प्रवेश परीक्षा के लिए कोचिंग ले रहे हैं। इसी तरह लाइब्रेरी व कम्प्यूटर सैंटर रविवार को शुरू हो जाएगा। गुरुकुलम को नालागढ़ एजुकेशनल सोसायटी चलाएगी जोकि एस.डी.एम. की अध्यक्षता में बनी है। 

फायदेमंद साबित हो रही आई.ए.एस. अधिकारियों की तैनाती
नालागढ़ में बतौर एस.डी.एम. आई.ए.एस. अधिकारियों की तैनाती होना क्षेत्र के लिए फायदेमंद साबित हो रहा है। आई.ए.एस. अधिकारियों डा. यूनुस, ललित जैन, हरिकेश मीणा व आशुतोष गर्ग की सराहनीय उपलब्धियां रही हैं। नालागढ़ में करीब 1 करोड़ रुपए की लागत से ऐतिहासिक तालाब का जीर्णोद्धार व कालेज मैदान का विस्तार जनसहयोग की एक बहुत बड़ी मिसाल है। वर्तमान एस.डी.एम. आशुतोष गर्ग की बात की जाए तो उन्होंने भी नालागढ़ के पुराने ब्वायज स्कूल के ऐतिहासिक भवन का जीर्णोद्धार करवाकर वहां पर गुरुकुलम बना दिया। आशुतोष गर्ग से प्रेरणा लेकर तालाब के पास जनसहयोग से ही एलिन उद्योग ग्रुप द्वारा पार्क का निर्माण किया जा रहा है। 

इन्होंने दिया सहयोग
गुरुकुलम को बनाने में ओकाया पावर ग्रुप, इंडेग रबड़, एशियन सीमैंट, एलिन, अम्बुजा सीमैंट, कंगारू, एलकेम, राज व मैकलॉयड उद्योग, आर्यन पब्लिक स्कूल, अल्पाइन पब्लिक स्कूल, दून वैली पब्लिक स्कूल व सर्वहितकारी स्कूल सहित अन्य लोगों व व्यवसायियों का सहयोग रहा है। नालागढ़ उद्योग संघ के अध्यक्ष सुबोध गुप्ता व संगठन सचिव अनिल शर्मा आदि ने कहा कि नालागढ़ में जनसहयोग से जो काम हुए हैं, वे एक मिसाल हैं। आशुतोष गर्ग ने बताया कि विद्यार्थियों को हर सुविधा मिलनी चाहिए ताकि वे अपने जीवन के उद्देश्य तक पहुंच सकें तथा इसी मकसद से यहां पर कोचिंग सैंटर खोला गया है।

यह हैं आशुतोष गर्ग 
हमीरपुर जिला के गांव सलासी में लेखराम गर्ग व सुनीता शर्मा के पुत्र आशुतोष गर्ग का जन्म 12 मई, 1990 को हुआ था। उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा सरकारी स्कूल से प्राप्त करने के बाद हिम अकैडमी से आगे की पढ़ाई की। गर्ग ने बिट्स पिलानी से इलैक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग की है तथा वह वर्ष 2014 बैच के आई.ए.एस. अधिकारी हैं। गर्ग को नौकरी में पहली पोस्टिंग नालागढ़ में बतौर एस.डी.एम. मिली और उन्होंने अपने इस कार्यकाल को नालागढ़ की जनता के लिए एक बहुत बड़ा उपहार बना दिया। उनकी उपलब्धियां जहां युवा वर्ग के लिए लाभदायक होंगी।



आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन