HPU में बनेगा नैशनल एकैडमिक डिपॉजिट्री सैल

HPU में बनेगा नैशनल एकैडमिक डिपॉजिट्री सैल

शिमला: हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय (एचपीयू) में नैशनल एकैडमिक डिपॉजिट्री सैल स्थापित करने की कवायद शुरू हो गई है। अगले शैक्षणिक सत्र से विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को यह सुविधा मिलेगी। यहां अनुदान आयोग (यू.जी.सी.) के दिशा-निर्देशों के चलते हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में नैशनल एकैडमिक डिपॉजिट्री सैल स्थापित किया जाएगा। नैशनल एकैडमिक डिपॉजिट्री (एन.ए.डी.) में विद्यार्थी अपने सर्टीफिकेट्स व डिग्री तथा अन्य शैक्षणिक अवार्ड्स डिजिटल फॉर्मेट्स पर रख सकेंगे। शैक्षणिक अवार्ड के डिजिटल डिपोजिट्री एन.ए.डी. सप्ताह के सातों दिन 24 घंटे संचालित रहेगा। एन.ए.डी. एकैडमिक अवार्ड्स रखने का ऑनलाइन स्टोर हाऊस है, जिसमें छात्र-छात्राएं अपनी डिग्री, डिप्लोमा, सर्टीफिकेट्स व मार्कशीट्स आदि डिजिटल फॉर्मेट में रख सकेंगे। 


एन.ए.डी. के 24 घंटे संचालित होने से छात्र-छात्राओं को अपने सर्टीफिकेट्स, डिग्री आदि की प्रमाणिकता मान्य करवाने, सुरक्षित भंडारण और आसानी से प्राप्त करने में मदद मिलेगी। नैशनल एकैडमिक डिपॉजिट्री सैल स्थापित करने के साथ-साथ नोडल अधिकारियों की तैनाती भी की जाएगी। यू.जी.सी. ने बीते दिनों पूर्व सभी विश्वविद्यालयों के प्रबंधन को नोडल अधिकारी तैनात करने के भी निर्देश जारी किए थे। हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय परिसर में कार्यशाला आयोजित की जाएगी। इस कार्यशाला में विश्वविद्यालय के कार्यरत कर्मचारियों व अधिकारियों को नैशनल एकैडमिक डिपॉजिट्री सैल के संचालन को लेकर जानकारी दी जाएगी।


सर्टीफिकेट व डिग्री के सत्यापन में होगी आसानी
नैशनल एकैडमिक डिपॉजिट्री सैल स्थापित होने से विद्यार्थियों के विभिन्न सर्टीफिकेट्स व डिग्री के सत्यापन में आसानी होगी। इस सैल की मदद से सर्टीफिकेट्स के भौतिक प्रमाण की जरूरत नहीं पड़ेगी। इससे विद्यार्थियों के अलावा शैक्षणिक संस्थानों आदि को लाभ होगा।
 



आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन