आपातकालीन वार्ड में एक घंटे तक दर्द से तड़पती रही बच्ची, नहीं मिला इलाज

आपातकालीन वार्ड में एक घंटे तक दर्द से तड़पती रही बच्ची, नहीं मिला इलाज

नालागढ़: औद्योगिक क्षेत्र बी.बी.एन. की सी.एच.सी. नालागढ़ के आपातकालीन वार्ड में एक नर्स द्वारा घायल बच्ची की अनदेखी करने का मामला सामने आया है। लोगों ने इस संबंध में एस.डी.एम. नालागढ़ के माध्यम से एक शिकायत पत्र मुख्यमंत्री को भेजकर नर्स के खिलाफ उचित कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने इसकी प्रतिलिपि मुख्य सचिव व स्वास्थ्य मंत्री को भी भेजी है। 

स्टाफ नर्स ने बच्ची के साथ की बदसलूकी
जानकारी के अनुसार जसप्रीत सिंह पुत्र यशवंत सिंह निवासी बेला मंदिर नालागढ़ ने बताया कि उनके गांव की एक बच्ची किरनजीत कौर वीरवार सुबह राजपुरा स्कूल के लिए जा रही थी। जैसे ही बच्ची सड़क पर पहुंची तभी एक तेज रफ्तार दोपहिया वाहन ने उसे टक्कर मार दी, जिससे वह सड़क के बीच गिर गई। बच्ची की टांग से लगातार खून बह रहा था। उसी वक्त घायल बच्ची को निजी वाहन से नालागढ़ चिकित्सालय लाया गया। जब बच्ची को आपातकालीन वार्ड में लाया गया तो वहां तैनात एक स्टाफ नर्स ने बच्ची के साथ बदसलूकी की और कहा कि इसे कुछ नहीं हुआ है। इस दौरान उसने बच्ची को अस्पताल लाने वाले लोगों को भी धक्के मारकर कमरे से बाहर कर दिया गया।

नर्स के खिलाफ हो कड़ी कार्रवाई
उन्होंने कहा कि बच्ची बुरी तरह से घायल थी और उसकी टांग से लगातार खून बह रहा था। करीब एक घंटे के बाद वहां पर डाक्टर आया और घायल बच्ची की टांग पर टांके लगाए। उन्होंने आरोप लगाया कि उक्त नर्स वहां मौजूद एक अन्य बूढ़ी औरत के साथ भी बदसलूकी से पेश आई। लोगों ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि उक्त नर्स के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाए। एस.डी.एम. नालागढ़ आशुतोष गर्ग ने कहा कि उन्हें इस संबंध में एक ज्ञापन मिला है, जिसे आगामी कार्रवाई के लिए प्रेषित कर दिया गया है।



आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन