रेलवे में निजीकरण के विरोध में गरजी DYFI, ट्रेन रोक कर किया धरना-प्रदर्शन

रेलवे में निजीकरण के विरोध में गरजी DYFI, ट्रेन रोक कर किया धरना-प्रदर्शन

शिमला: भारतीय रेलवे की वर्तमान में बनाई गई नीतियों के विरोध में मंगलवार को डी.वाई.एफ.आई. ने धरना-प्रदर्शन किया और इस दौरान उन्होंने समरहिल रेलवे स्टेशन पर रेल को रोककर अपना रोष व्यक्त किया। इस अवसर पर काफी संख्या में डी.वी.एफ.आई. के कार्यकत्र्ता मौजूद रहे। इस दौरान संस्था के सचिव कपिल शर्मा ने संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने सत्ता में आने के बाद रेलवे में खाली पड़े लाखों पदों को समाप्त कर दिया है। उन्होंने कहा कि नया रोजगार देने के स्थान पर सेवानिवृत्त कर्मचारियों को सेवा विस्तार दिया जा रहा है जिससे नौजवानों की बेरोजगारी की फौज तैयार होगी। 
PunjabKesari
रेलवे में ठेके पर की जा रहीं नई भर्तियां
उन्होंने आरोप लगाया कि रेलवे में नई भर्तियां ठेके पर की जा रही हैं। हैरिटेज रेल लाइनों व स्टेश्नों को निजी हाथों में बेचने की मुहिम शुरू की गई है। उन्होंने कहा कि केंद्र ने रेलवे में 100 प्रतिशत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि डी.वाई.एफ.आई. मांग करती है कि भारतीय रेलवे के खाली पड़े पदों को तुरंत भरा जाए। रेलवे का निजीकरण बंद किया जाए।



आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन