पशु चिकित्सकों के 125 पद खाली होने के बावजूद नहीं की जा रही डॉक्टर्स की तैनाती

पशु चिकित्सकों के 125 पद खाली होने के बावजूद नहीं की जा रही डॉक्टर्स की तैनाती

ऊना : पशु चिकित्सकों के खाली पड़े पदों को भरने तथा नए पशु औषधालय खोलने की मांग को लेकर डिग्री धारक वैटर्नरी डॉक्टर्स का प्रतिनिधिमंडल रविवार को ग्रामीण विकास, पंचायती राज, पशुपालन एवं मत्स्य पालन मंत्री वीरेन्द्र कंवर से मिला। डाक्टर सुगम शर्मा, सुभम, पंकज, आशीष, राजीव दत्ता व डा. साक्षी विज सहित दर्जनों अन्य चिकित्सकों ने पशुपालन मंत्री को बताया कि प्रदेश में इस समय करीब 125 पशु चिकित्सकों के पद खाली हैं। प्रत्येक वर्ष करीब 50 नए चिकित्सक हिमाचल के एकमात्र कालेज से डिग्री प्राप्त करते हैं परन्तु उन्हें कोई भी जॉब नहीं मिलती है।

डिग्री प्राप्त वैटर्नरी डॉक्टर्स नियुक्ति की उम्मीद में घूम रहे 
पिछले करीब 5 वर्षों से डिग्री प्राप्त वैटर्नरी डॉक्टर्स नियुक्ति की उम्मीद में घूम रहे हैं परन्तु उन्हें कोई नियुक्ति नहीं दी जा रही है। प्रदेश में इतने पद खाली होने के बावजूद डॉक्टर्स की तैनाती नहीं की जा रही है। वैटर्नरी डाक्टर्स के मुताबिक प्रत्येक 5 हजार की संख्या पर एक वैटर्नरी डॉक्टर की नियुक्ति होनी चाहिए लेकिन हिमाचल में 12 हजार पशुओं पर भी एक डॉक्टर की नियुक्ति नहीं हो रही है। इससे न तो पशुओं का उपचार हो पा रहा है और न ही बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिल रही हैं।

मुख्यमंत्री से उठाया जाएगा मामला
वैटर्नरी डॉक्टर्स के इस प्रतिनिधिमंडल की समस्याओं को सुनने के बाद संबंधित कैबिनेट मंत्री वीरेन्द्र कंवर ने आश्वासन दिया कि वह इस मामले को प्रमुखता से हल करने का प्रयास करेंगे। मुख्यमंत्री के साथ मामले को उठाया जाएगा और वैटर्नरी डाक्टर्स के खाली पदों को भरने की प्रक्रिया को शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार का सर्वोच्च एजैंडा पशुधन को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया करवाना है।



आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन