CM वीरभद्र के कड़े तेवर, बोले-पथ से भटक रही है कांग्रेस पार्टी

CM वीरभद्र के कड़े तेवर, बोले-पथ से भटक रही है कांग्रेस पार्टी

शिमला: विधानसभा चुनाव नजदीक आते-आते मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के तेवर भी लगातार कड़े होते जा रहे हैं। उन्होंने रविवार को जिला कुल्लू के निरमंड में एक जनसभा में कहा कि उन्होंने कहा कि अखिल भारतीय कांग्रेस समिति (ए.आई.सी.सी.) के साथ-साथ प्रदेश कांग्रेस समिति (पी.सी.सी.) को अपनी सोच व कार्यकारिणी में परिवर्तन लाना चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि किसी सदस्य को प्राथमिकता देनी है तो उसे खंड स्तर से लेकर जिला कांग्रेस समिति तक पार्टी के लिए की गई समर्पित सेवाओं के आधार पर ही चयनित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि अपनी मर्जी से किसी को चयनित करने से पार्टी के गौरवमयी इतिहास व संस्कृति को नुक्सान हो रहा है। 

पार्टी के आदर्श तथा संविधान को भुलाया
वह कांग्रेस समिति के अध्यक्ष के रूप में 4 बार चयनित हुए तथा चुनावों से पूर्व पुन: कांग्रेस हाईकमान द्वारा नामित किए गए, लेकिन अब ऐसा प्रतीत होता है कि कांग्रेस में पार्टी के आदर्श तथा संविधान को भुलाया जा चुका है। उन्होंने कहा कि खंड स्तर से लेकर अखिल भारतीय कांग्रेस कार्यकारी समितियों तक सदस्यों को पहले चुना जाता था लेकिन अब पार्टी इस पथ से भटक रही है। यहां तक कि खंड कांग्रेस सदस्यों को भी प्रदेश कांग्रेस समिति कार्यालय द्वारा नामित किया जा रहा है। उन्होंने कांग्रेस पार्टी राष्ट्र की स्वतंत्रता के लिए बलिदान देने वालों की मेहनत से बनाई गई एक राष्ट्रीय पार्टी है। उन्होंने कहा कि युवाओं को पार्टी में प्राथमिकता देनी चाहिए क्योंकि युवा ही प्रदेश व देश के विकास में अग्रणी भूमिका निभा सकते हैं। 

नियमों के खिलाफ बनाई निरमंड-आनी खंड की समितियां
मुख्यमंत्री ने कहा कि निरमंड तथा आनी खंड में जो कांग्रेस समितियां बनाई गई हैं, वह नियमों के खिलाफ  हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी में ऐसी कोताही किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं की जाएगी क्योंकि इससे लोग जिले अथवा दो-तीन पंचायतें मिलकर सब-तहसील अथवा तहसील के दर्जे की मांग करने लगेंगे, जोकि प्रदेश तथा पार्टी के हित में नहीं है। गौर हो कि मुख्यमंत्री संगठन के अहम पदों पर हुई कई नियुक्तियों को लेकर भी कई बार सवाल खड़े कर चुके हैं। 

सभी योजनाओं को पूरा करने के लिए पर्याप्त धन
भाजपा द्वारा पर्याप्त बजट के बिना प्रदेश भर में आधारशिलाओं की झड़ी लगाने के आरोपों को नकारते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार के पास सभी योजनाओं को पूरा करने का पर्याप्त बजट है। लोगों के कल्याण व सभी क्षेत्रों के समान एवं संतुलित विकास के लिए सोच-समझकर व उपलब्ध निधि को ध्यान में रखते हुए ही इन सभी योजनाओं की आधारशिलाएं रखी गई हैं।

....तो ठेकेदार 5 साल को हों ब्लैकलिस्ट
मुख्यमंत्री ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को तय समय सीमा के भीतर कार्यों को पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिस ठेकेदार को काम सौंपा जाए, वह उसे समय में पूरा करना सुनिश्चित करे और यदि कार्य में महीनों की देरी होती है तो संबंधित ठेकेदार को 5 साल के लिए ब्लैकलिस्ट किया जाए। उन्होंने कहा कि निर्माण कार्यों में किसी भी तरह का विलंब सहन नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि ऐसा होने से परियोजनाओं की लागत बढ़ती है तथा लोगों के पैसे की बर्बादी होती है।



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !