सी. एंड वी. शिक्षकों का सरकार को अल्टीमेटम, इस तारीख तक पूरी करो मांगें नहीं तो होगा घेराव

सी. एंड वी. शिक्षकों का सरकार को अल्टीमेटम, इस तारीख तक पूरी करो मांगें नहीं तो होगा घेराव

शिमला/मंडी: राजकीय सी.एंड वी. अध्यापक संघ ने प्रदेश सरकार व शिक्षा विभाग के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। अध्यापक संघ न सरकार व शिक्षा विभाग को अल्टीमेटम दिया है कि अगर 30 जून तक उनकी मांगों को पूरा नहीं किया गया तो वे 3 जुलाई से धरना-प्रदर्शन करने पर मजबूर होंगे। संघ की राज्य स्तरीय बैठक 10 जून को कुल्लू में हुई थी लेकिन अभी तक मांगों को पूरा नहीं किया गया है। संघ के प्रदेशाध्यक्ष चमन लाल शर्मा ने कहा कि वे शिक्षकों की मांगों को 3 वर्षों से विभाग व सरकार के समक्ष उठाते आ रहे हैं लेकिन आश्वासन के सिवाय अभी तक कुछ नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि अगर 30 जून से पहले सी.एंड वी. शिक्षकों की मांगों पर प्रदेश सरकार व शिक्षा विभाग कोई निर्णय नहीं लेता है तो संघ को मजबूरन 3 जुलाई को शिक्षा निदेशालय के बाहर धरना-प्रदर्शन करने को विवश होगा। 

ये हैं शिक्षकों की मुख्य मांगें
सी.एंड वी. शिक्षकों की मांगों में नए स्तरोन्नत माध्यमिक स्कूलों में कला अध्यापक व शारीरिक शिक्षकों के पदों की स्वीकृति देना, विभाग की ओर से 10 सितम्बर, 2015 को जारी अधिसूचना को रद्द करना, माध्यमिक स्कूलों में नियमित प्रशिक्षित स्नातक या वरिष्ठ सी. एंड वी. अध्यापकों को ही प्रभारी बनाया जाना, सी. एंड वी. अध्यापकों को 20 वर्ष के बाद मिलने वाली 2 विशेष वेतन वृद्धियों को 10 या 15 वर्षों के सेवाकाल के पश्चात देना, स्थानांतरण नीति में संशोधन करना, स्थानांतरण कोटा 1 से बढ़ाकर 15 व समय अवधि 13 वर्ष से घटाकर 5 वर्ष करना, स्वीकृत 1500 पदों को जल्द भरना, सी. एंड वी. शिक्षक ों को उनकी शैक्षणिक योग्यता व अनुभव के आधार पर पदनाम देना, पैरा तथा पी.टी.ए. अध्यापकों को अविलंब नियमित करना, पुरानी पैंशन स्कीम को बहाल करना व 2003 से पहले नियुक्त सभी अध्यापकों को पैंशन में लाना शामिल हैं। 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !