15 दिन बीत जाने के बाद भी नहीं मिला मृतक डॉक्टर को इंसाफ

15 दिन बीत जाने के बाद भी नहीं मिला मृतक डॉक्टर को इंसाफ

धर्मशाला (नृपजीत निप्पी): कांगड़ा के पौंग बांध से 5 जून को बरामद हुए एक डॉक्टर की संदेहस्पद परिस्थिति में हुई मौत के कारणों का पता लगाने और एफआईआर दर्ज करवाने को लेकर मृतक के पिता सुरेंद्र भल्ला व गांववासियों ने पुलिस अधीक्षक कांगड़ा संजीव गांधी से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से कहा गया है कि अमित सीएचसी इंदौरा में तैनात था और जिस जगह उसकी लाश मिली है वहां किसी भी व्यक्ति को जाने की अनुमति नहीं है फिर कैसे लाश उस जगह पर पहुंच गई। पीड़ित पिता ने बताया कि वहां के कर्मचारी इसे आत्महत्या करार दे रहे हैं और कोई भी संतोषजनक उत्तर नहीं दे रहा है। आत्महत्या करने की कोई वजह भी नहीं थी। उन्होंने कहा कि संस्थान के कर्मचारियों ने उनके बेटे की हत्या की है, क्योंकि अमित के शरीर पर कई जगह चोट के निशान पाए गए हैं।
PunjabKesari

15 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस ने नहीं दर्ज किया मामला
उन्होंने पुलिस अधीक्षक से मांग की है कि जल क्रीड़ा केंद्र के इंचार्ज गुलेरिया कर्मचारी संजू, बिट्टू व रामकृपाल से इस मामले में कड़ी पूछताछ की जाए तब इस मौत के रहस्य से पर्दा उठ सकता है। क्योंकि यह लोग अमित के मौत के ज़िम्मेदार हैं और इन्होंने ही उसकी हत्या की है। क्योंकि जहां पर डॉ अमित की लाश मिली है वहां पर नाव के बिना पहुंच पाना असंभव है। ऐसे में कौन सा कर्मचारी उसको वहां तक ले गया। सुरेंद्र ने कहा कि 15 दिन बीत जाने के बाद भी फतेपुर पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया और न ही कोई तफ्तीश की है। उन्होंने डिस्ट्रिक्ट इंस्पेक्टर क्राइम से जांच-पड़ताल करवाने की मांग की है। पुलिस अधीक्षक ने मामले की निष्पक्ष जांच का भरोसा दिया है।
PunjabKesari



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !