11वीं के छात्र ने बनाई ऐसी मशीन जो करेगी घर के इतने सारे काम

11वीं के छात्र ने बनाई ऐसी मशीन जो करेगी घर के इतने सारे काम

सोलन: जिला चम्बा के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय चुवाड़ी के 11वीं के छात्र अंकित ने ऐसी मशीन का मॉडल तैयार किया है जिससे प्रदेश के लोगों की जीवनशैली बदल सकती है। मॉडल का नाम इंप्रूव लाइफ स्टाइल एंड लाइवलीहुड है और इसे सोलन के नौणी वि.वि. में चल रहे 25वें बाल विज्ञान कांग्रेस में प्रदर्शित किया गया है। अंकित ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों के दैनिक कार्यों में होने वाली परेशानी को देखते हुए उन्होंने यह मॉडल तैयार किया है। इस मशीन हाथ से या पानी के बहाव से भी चलाया जा सकता है। इस मल्टीपर्पस मशीन में ड्रिलर लगा है जिससे किसी लकड़ी में छेद किया जा सकता है। टाइल कटर से टाइलें काटने का काम भी किया जा सकता है। इसके अलावा इसके घूमने से इसमें बिजली भी तैयार होती है। इसी मशीन से पानी को लिफ्ट करके सिंचाई की जा सकती है, मधानी से लस्सी तैयार की जा सकती है। मक्की के भुट्टों से दान अलग किए जा सकते हैं, आटा चक्की, वाशिंग मशीन, लकड़ी का कटर, पाइप रोल करना व धान झाडऩा आदि कार्य एक ही मशीन से किए जा सकते हैं। यही नहीं यह मॉडल वेस्ट मैटीरियल से तैयार किया गया है। इस मशीन में और सुधार करने से इससे किसान अपना रोजगार भी चला सकते हैं। 
PunjabKesari
शेरॉन ने बताया सीवरेज के पानी को कैसे करें प्रयोग
राज्य स्तरीय चिल्ड्रन साइंस कांग्रेस में जिला शिमला के रामपुर बुशहर की शैरॉन ने बताया कि कैसे हम सीवरेज पानी को स्वच्छ जल में तबदील करके प्रयोग कर सकते हैं। इससे हम न केवल अपनी पानी की दैनिक जरूरतों को पूरा कर सकते हैं, बल्कि इसे कृषि और पीने योग्य भी बना सकते हैं। इसके अलावा इससे फिश फार्मिंग, ड्रिप इरिगेशन, हाईड्रोपोनिक प्लांट व पॉलीहाऊस में भी प्रयोग कर सकते हैं। ट्रीटमैंट के दौरान इससे निकलने वाली स्लरी से बायोगैस तैयार की जा सकती है और बाद में इसका प्रयोग खाद के रूप में किया जा सकता है। शैरॉन ने इस पूरी प्रक्रिया को अपने मॉडल के माध्यम से बखूबी समझाया है। इस मॉडल का नाम सस्टेनेबल डिवैल्पमैंट रखा गया है। शेरॉन राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक छात्रा विद्यालय रामपुर बुशहर में 12वीं की छात्रा है।
PunjabKesari
यूरिन से तैयार हो सकती है बिजली
यूरिन से भी बिजली तैयार हो सकती है यह बताने का प्रयास कुल्लू जिला के राजकीय मॉडल वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय आनी के 12वीं कक्षा के छात्र अभिषेक ठाकुर ने किया। अपने मॉडल में उन्होंने दिखाया है कि यूरिन को 2 प्लेटों को डालकर इससे बिजली तैयार की जा सकती है। हालांकि इससे बहुत अधिक मात्रा में तो बिजली नहीं बन सकती, लेकिन इससे एल.ई.डी. बल्बों को जलाया जा सकता है। उन्होंने बताया कि इस छोटे से मॉडल से करीब 10 एल.ई.डी. बल्बों को जलाया जा सकता है। बिजली बनने के बाद इसमें केवल पानी ही शेष रह जाता है। इसके लिए यूरिन को एक बीकर में एकत्र करके इसमें कॉपर और एल्युमीनियम की प्लेटों को लगाया जाता है। अब प्लेटों के सिरों से तारें जोड़कर इससे करंट पैदा हो जाता है।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!